पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

माैत का मामला:एसआईटी की जांच में अब तक नहीं मिले हत्या के साक्ष्य, आत्महत्या की आशंका- डीआईजी

हजारीबागएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • डीआईजी ने अब तक जांच और एसआईटी रिपोर्ट को मीडिया से किया साझा

हजारीबाग मेडिकल कॉलेज की छात्रा पूजा भारती का कॉलेज से निर्धारित प्रैक्टिकल एग्जाम को छोड़कर 11 जनवरी को गायब होना और 12 जनवरी को रामगढ़ जिले के पतरातू डैम से शव पाए जाने के मामले में अब तक की जांच का प्रगति रिपोर्ट हजारीबाग रेंज के डीआईजी एवी होमकर ने मीडिया के समक्ष रखा। उनके साथ इस मामले की जांच में जुटे एसआईटी टीम में शामिल हजारीबाग एसपी कार्तिक एस, रामगढ़ एसपी प्रभात कुमार समेत अन्य पुलिस अधिकारी भी मौजूद रहे। डीआईजी एबी होमकर ने बताया कि इस मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए हजारीबाग रामगढ़ पुलिस टीम को शामिल करते हुए ज्वाइंट एसआईटी टीम का गठन किया गया है। इसमें हजारीबाग एसपी, रामगढ़ एसपी, दोनों जिला से दो डीएसपी, 5 इंस्पेक्टर और 11 एसआई स्तर के पदाधिकारियों को लगाया गया है। इनके अलावा अन्य पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। एसआईटी टीम की जांच अभी जारी है।

अब तक की जांच के क्रम में मिले साक्ष्य छात्रा पूजा भारती के आत्महत्या कर लेने की ओर इशारा कर रहा है। लैपटॉप में पूजा का गूगल अकाउंट डिलीट पाया गया है। कमरे के डस्टबिन और पर्स में मिले कागज के टुकड़े उसके मानसिक परेशानी की ओर संकेत कर रहे हैं। घटना के पूर्व छात्रा ने कई जलाशयों की जानकारी संकलित की थी। जिसमें पतरातू डैम भी शामिल है। डैम की गहराई और पतरातू डैम पहुंचने के रास्ते के बारे में भी छात्रा ने जानकारी एकत्रित की थी। डीआईजी ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक छात्रा के साथ सेक्सुअल असॉल्ट और हत्या होने से संबंधित साक्ष्य नहीं मिले हैं। रिपोर्ट में डूबने से दम घुटकर मृत्यु पाया गया है। शरीर पर कोई बाहरी चोट के निशान नहीं पाए गए हैं। पेट में पानी पाया गया है। अब तक की जांच में ऐसा कोई भी साक्ष्य नहीं मिले जिसे यह प्रतीत हो कि उसकी हत्या हुई है।

सभी साक्ष्य, तकनीकी जांच से यह आत्महत्या का मामला प्रतीत हो रहा है। वैसे एसआईटी टीम का आगे भी जांच जारी है। डीआईजी होमकर ने बताया कि इस कांड की संवेदनशीलता को देखते हुए कांड के गुणवत्तापूर्ण एवं त्वरित गति से अनुसंधान को लेकर हजारीबाग एसपी कार्तिक एस और रामगढ़ एसपी प्रभात कुमार के नेतृत्व में जॉइंट एसआईटी टीम का गठन किया गया। कांड के अनुसंधानकर्ता पतरातू सर्किल इंस्पेक्टर लिलेश्वर महतो को बनाया गया। शव के पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल बोर्ड का गठन किया गया। जिसमें 3 सदस्यीय डॉक्टरों की टीम के द्वारा प्रतिनियुक्त मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में वीडियोग्राफी कराते हुए शव का पोस्टमार्टम किया गया। पोस्टमार्टम के दौरान भिसरा सहित कुछ सैंपल को रिजर्व करते हुए जांच के लिए एफएसएल रांची भेजा गया। गठित एसआईटी टीम ने हजारीबाग पतरातू रामगढ़ रांची एवं गोड्डा में विभिन्न पहलुओं पर अनुसंधान का कार्य किया और आगे भी किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज समय कुछ मिला-जुला प्रभाव ला रहा है। पिछले कुछ समय से नजदीकी संबंधों के बीच चल रहे गिले-शिकवे दूर होंगे। आपकी मेहनत और प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। किसी धार्मिक स्थल पर जाने से आपको...

    और पढ़ें