अस्पताल क्षेत्र:हजारीबाग में 100 डेसिबल के पार पहुंचा पटाखों का शोर, प्रदूषण का स्तर भी दोगुने से ज्यादा रहा

हजारीबागएक महीने पहलेलेखक: उमेश कुमार
  • कॉपी लिंक

हजारीबाग शहर में दीपावली के मौके पर इस बार ध्वनि प्रदूषण पिछले वर्ष के मुकाबले ज्यादा ही खतरनाक रहा है। यहां तक कि साइलेंस जोन में आने वाले अस्पताल क्षेत्र में भी दीपावली के मौके पर अधिक शोर मचा गया है। पटाखों की तेज आवाज से अस्पताल में भर्ती किसी मरीज की तबीयत पर असर पड़ा हो, इस संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है।

क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण पर्षद, हजारीबाग द्वारा दीपावली के मौके पर ध्वनि प्रदूषण के स्तर को मापने के लिए लगाए गए यंत्र के नतीजे के अनुसार साइलेंस जोन में ध्वनि प्रदूषण की मात्रा 45 से अधिकतम 50 डेसीबल तक होनी चाहिए लेकिन साईलेंस जोन सदर अस्पताल के आसपास दीपावली की रात ध्वनि प्रदूषण की मात्रा 88.9 डेसिबल तक पहुंच गया।

शाम छह बजे से रात के 12 बजे तक के सैंपल में शाम छह बजे से रात के 11 बजे तक ध्वनि प्रदूषण 81 डेसिबल से अधिक बना रहा। हालांकि वर्ष 2020 में दीपावली की रात इस वर्ष के मुकाबले ध्वनि प्रदूषण कम रही थी। गत वर्ष अधिकतम 76.8 डेसिबल तक रहा था।

खबरें और भी हैं...