प्रशिक्षण:सिक्यूरिटी कंपनी पर पैसे लेकर बहाली का आरोप, अभ्यर्थियाें ने किया हंगामा

हजारीबाग10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले के विभिन्न थानों में अभियान चलाकर 10वीं और 12वीं पास बेरोजगार युवक युवतियों को बहाली कर रहे सिक्यूरिटी कंपनी एसआइएस पर 10 हजार में गार्ड और 40 हजार में सुपरवाइजर की नौकरी बांटने का आरोप लगा है। उनके यहां जवान और सुपरवाइजर की सीटें कितनी है, इसकी जानकारी उसके भर्ती अधिकारी को भी नहीं है लेकिन, पैसा देने वाले को सुपरवाइजर और गार्ड की नौकरी देने की गारंटी जरूर दी जा रही है।

इस बाबत गुरुवार को मुफ्फसिल थाने में भर्ती में शामिल होने आए युवकों ने पैसे लिए जाने का आरोप लगाकर बवाल काटा। हंगामा कर रहे छात्रों ने पर्ची दिखाते हुए बताया कि उन्हें भर्ती के लिए बुलाया गया और दिए गए पर्ची में कहीं भी पैसा का जिक्र नहीं है। जब आवेदन जमा कर दिए तो उनसे 350 रुपये परीक्षा शुल्क लिया गया। परीक्षा भी नहीं हुआ और अब उन्हें नियुक्ति पत्र देने के नाम पर गार्ड के लिए 10 हजार और सुपरवाइजर के लिए 40 हजार रुपए की मांग की जा रही है।

जिले भर से आए युवकों में सदर प्रखंड से भी 20 से अधिक युवा आए थे। पैसे लिए जाने की शिकायत संबंधित युवकों ने अपने अपने मुखिया और थाना प्रभारी कटकमदाग से किया। सूचना पर पहुंचे सखिया मुखिया अरुण यादव, गुरहेत मुखिया महेश तिग्गा, सिलवार मुखिया महेंद्र राम और मोरांगी मुखिया चौधरी साव ने युवक और एसआइएस के भर्ती अधिकारी से सुलह और पंचायत कराया। वहीं थाना प्रभारी के निदेश पर हंगामा कर रहे युवकों को भर्ती अधिकारी ने पैसा वापस कर दिया।

टाटीझरिया से पहुंचा अशोक ने बताया कि कंपनी द्वारा किसी तरह के पैसे की जानकारी नहीं दी गई। आवेदन के नाम पर साढ़े तीन सौ रुपए ले लिए। अब नौकरी के हिसाब से 10 से 40 हजार रुपए मांगा जा रहा है। अगर मेरे पास पैसा होता तो हम लोग गार्ड की नौकरी करने आते। भर्ती अधिकारी अभिनव सिंह ने कहा कि पर्ची में नहीं है, लेकिन नियुक्त होने वाले लोगों को प्रशिक्षण के लिए पैसा देना होता है। ये रकम भी उनके प्रशिक्षण के लिए मांगा जा रहा था।

खबरें और भी हैं...