बंदियों की परिजनों से मुलाकात:मुलाकाती को चार काउंटर से इंटरकॉम से करनी होगी बात, सात शर्तों पर करना होगा अमल

हजारीबाग23 दिन पहलेलेखक: सुबोध मिश्रा
  • कॉपी लिंक
हजारीबाग स्थित जेपी केंद्रीय जेल - Dainik Bhaskar
हजारीबाग स्थित जेपी केंद्रीय जेल
  • 18 महीने बाद जेपी कारा में ऑफलाइन मुलाकात शुरू

हजारीबाग जेपी केंद्रीय कारा में 18 माह बाद ऑफलाइन मुलाकात शुरू कर दिया गया है। अब परिजन बंदियों से मुलाकाती काउंटर पर पहुंचकर सीधे बातचीत कर सकेंगे।

इसके लिए कारा में बने तीन पुरुष और एक महिला के लिए काउंटर सहित चार मुलाकाती काउंटर से इंटरकॉम के माध्यम से लोगों को बात करना होगा।

यह आदेश कारा अधीक्षक ने जारी कर दिया है। इसके लिए सात शर्तें रखी गई है, जिस पर बंदी और मुलाकातियों को अमल करना होगा। ऑफलाइन मुलाकात करने वालों को 7 शर्तों पर पूरी तरह से अमल करना पड़ेगा। जिनमें सजायाफ्ता बंदी से मुलाकाती महीने में एक बार मुलाकात कर पाएंगे।

विचाराधीन बंदियों से मुलाकाती 15 दिन में एक बार अर्थात महीने में दो बार मुलाकात कर पाएंगे। मुलाकात के लिए पहुंचने वाले परिजनों को मास्क लगाना अनिवार्य होगा। सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल करना आवश्यक होगा।

वही मुलाकाती बंदी से मुलाकात कर पाएंगे जिन्होंने कोरोना के दोनों वैक्सीन का डोज लगवा लिए होंगे। मुलाकाती कक्ष के बाहर काउंटर पर मुलाकात करने वाले के अलावा किसी की मौजूदगी या भीड़ लगाना नहीं होगा। कोविड-19 नियमों का अनुपालन कराया जाएगा जिस पर मुलाकाती को अमल करना पड़ेगा। 05 अप्रैल 2020 से बंद था ऑफलाइन मुलाकात: मार्च 2020 में कोरोना का पहला लहर आरंभ होते हीं 5 अप्रैल 2020 से कारा प्रशासन ने ऑफलाइन मुलाकात बंद कर दिया था।

वैकल्पिक व्यवस्था के तहत ई मुलाकात शुरू किया गया था। मुलाकाती को 18 माह तक ई मुलाकात की सुविधा कारा प्रशासन मुहैया कराया वहीं कोरोना से बचाव को लेकर कई तरह के एहतियात बरते गए थे। जिसमें ऑफलाइन मुलाकात पर रोक भी शामिल था। कारा अधीक्षक कुमार चंद्रशेखर ने कहा कि कोरोना को देखते हुए 2020 में पहले लहर के समय से ही ऑफलाइन मुलाकात बंद कर दिया गया था। प्रतिदिन दो हजार बंदियों के होने की वजह से मुलाकातियों की संख्या भी हर रोज 4 से 6 सौ के करीब होती रही है ।

ऐसे में कोविड से बचाव को लेकर प्रतिबंध लगाया गया था । अब कोविड-19 गाइडलाइन पर अमल करते हुए ऑफलाइन मुलाकात शुरू कर दिया गया है। मुलाकात वही कर पाएंगे जो कोविड-19 गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए सभी शर्तों को पूरा करेंगे।

खबरें और भी हैं...