पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ई-कल्याण छात्रवृत्ति:टाटीझरिया के केशोडीह में वज्रपात10 फरवरी से बंद छात्रवृत्ति आवेदन पोर्टल दोबारा चालू करने के लिए अभियान शुरू से दो की मौत

हजारीबागएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • छात्रों में काफी दोष है, उन्हें सड़कों पर इन हालातो में उतरने को मजबूर न किया जाय

ऑल इंडिया डेमोक्रेटिक स्टूडेंट ऑर्गनाइजेशन ने ई-कल्याण छात्रवृत्ति पोर्टल को 10 फरवरी को बंद किए जाने के बाद विभिन्न माध्यमों से आंदोलन कर रहा है। अब संगठन ने सोशल मीडिया पर अभियान प्रारंभ किया है। वर्तमान सत्र में नामांकन की प्रक्रिया शुरू ही हुई थी और 35 दिनों में ही ई-कल्याण छात्रवृत्ति पोर्टल को बंद कर दिया गया। पूरे राज्य भर के सामान्य पाठ्यक्रम, प्रोफेशनल एवं वोकेशनल कोर्स में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं का अधिकांश संख्या छात्रवृत्ति आवेदन करने से वंचित हो गया।

प्रोफेशनल एवं वोकेशनल कोर्स में पढ़ने वाले छात्र अपना नामांकन छात्रवृत्ति से प्राप्त रकम के भरोसे ही करवाते हैं। वैसे में हजारों छात्र-छात्राएं पिछड़े परिवार से संबंधित होते हैं। जिनके लिए एक से दो लाख रुपए फीस का भुगतान कर पाना संभव नहीं हो पाता है। छात्रवृत्ति आवेदन से वंचित हो जाने पर पढ़ाई को बीच में ही छोड़ने को मजबूर होना होगा। इसको लेकर 6 मई को झारखंड के विभिन्न जिलों के प्रभावित छात्र छात्राओं ने टि्वटर पर से 5000 से अधिक ट्वीट राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, समाज कल्याण मंत्री चंपई सोरेन को किया। जिसमें मांग की गई कि छात्रवृत्ति छात्रवृत्ति छात्रों का अधिकार है। छात्रवृत्ति आवेदन की पोर्टल को अविलंब चालू किया जाए। राज्य सचिव समर महतो ने कहा कि छात्रवृत्ति आवेदन ना होने से पढ़ाई से हजारों छात्र वंचित हो जाएंगे। सरकार अविलम्ब पोर्टल चालू करें। छात्रों में काफी दोष है, उन्हें सड़कों पर इन हालातो में उतरने को मजबूर न किया जाय।

खबरें और भी हैं...