पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हौसले से हारा आतंक:चरही में लेवी वसूलने आए उग्रवादियों से भिड़े निहत्थे ग्रामीण, भाग रहे एक उग्रवादी को दबाेचा; पांच भागे

हजारीबागएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • फुसरी बोरवा कोचा के ग्रामीणों ने उग्रवादियों से एक देसी कट्टा, एक पीजी गन, एक देसी राइफल और एक 7.6 एमएम की पिस्टल भी छीना

हजारीबाग में ग्रामीणों का साहस उग्रवादियों पर भारी पड़ा। चरही थाना क्षेत्र के फुसरी बोरवा कोचा गांव में लेवी वसूलने आए जेपीसी (झारखंड प्रस्तुति कमेटी) के 6 उग्रवादियों काे ग्रामीणों ने दाैड़ा-दाैड़ाकर पीटा। ग्रामीणों का आक्राेश देखते हुए पांच उग्रवादी जान बचाकर भाग गए, जबकि एक को खदेड़कर दबाेचा गया। ग्रामीणों ने उग्रवादियों से एक देसी कट्टा, एक पीजी गन, एक देसी राइफल और एक 7.6 एमएम की पिस्टल छीन लिया है। पकड़े गए उग्रवादी और हथियार काे पुलिस के हवाले कर दिया गया है। पकड़े गए उग्रवादी की पहचान दिनेश कुमार के रूप में की गई है। ग्रामीणों की पिटाई से वह गंभीर रूप से घायल है। सदर अस्पताल हजारीबाग में उसका इलाज चल रहा है।

घटना बुधवार रात करीब 11 बजे की है। ग्रामीणों के अनुसार, उग्रवादी कोल परियोजना तापिन साउथ लोकल सेल की हाई पावर कमेटी के सदस्य रामकिशोर मुर्मू के घर लेवी वसूलने आए थे। इसकी सूचना मिलने पर गांव के लाेग एकजुट हाे गए और उग्रवादियों काे घेर लिया। उग्रवादियों ने हथियार का भय दिखाते ग्रामीणों काे भगाना चाहा, लेकिन वे डरे नहीं और भिड़ गए। इस दाैरान डेढ़ घंटे तक घंटों हाथापाई हुई, जिसमें ग्रामीण भारी पड़े। ग्रामीणों ने सभी उग्रवादियों की पिटाई की। ग्रामीणों काे भारी पड़ते देख उग्रवादी हथियार छाेड़कर भागने लगे। गांव के लाेगाें ने उन्हें दूर तक खदेड़ा और एक उग्रवादी काे पकड़ लिया। हाथापाई में गांव के बिरालाल सोरेन, नवीन सोरेन और सुनील सोरेन भी घायल हुए हैं। उन्हें सदर अस्पताल हजारीबाग में भर्ती कराया गया है। 2015 में उग्रवादियों ने इसी गांव में विस्थापित प्रभावित संघर्ष मोर्चा के सचिव मन्नू टुडू की बेरहमी से पिटाई की थी। ग्रामीणों ने बताया कि पकड़े गए उग्रवादी ने बताया कि वे सभी चतरा से आए हैं। उन्हें लोकनाथ महतो ने रामकिशोर मुर्मू को उठाने के लिए भेजा था।

खबरें और भी हैं...