समाप्त हो गया खरमास:22 जनवरी से जुलाई माह तक बजेगी शादी की शहनाई, कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार ने कारोबारियों की बढ़ाई चिंता

हजारीबाग12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मकर संक्रांति के साथ शुक्रवार को खरमास का समापन हो गया। इसी के साथ सूर्य उत्तरायण हो गए। सूर्य के उत्तरायण होने पर शुभ कार्य का प्रारंभ किया जा सकता है। इस वर्ष में शादियों के मुहूर्त 22 जनवरी से शुरू हो रहे हैं। जनवरी से शुरू होनेवाला मुहूर्त दिसंबर तक है। इसका अर्थ हुआ की पूरे साल शादी होगी। सिर्फ अगस्त सितंबर और अक्टूबर माह में शादियों के शुभ मुहूर्त नहीं हैं।

जनवरी माह में 22, 23, 24 और 25 को विवाह का मुहूर्त है। फरवरी माह में भी पांच से 22 तक 10 शुभ मुहूर्त हैं। मार्च में चार और नौ तारीख को ही शादी का मुहूर्त है। अप्रैल में 11 दिन, मई में 15 दिन, जून में 12 दिन और जुलाई में पांच दिन विवाह के मुहूर्त हैं।

विवाह मुहूर्त और कोरोना साथ, व्यवसायी परेशान
2022 में साल भर विवाह के मुहूर्त को लेकर कपड़ा, जेवर, होटल, वाहन मालिक सहित अन्य लोग काफी खुश थे की कारोबार साल भर चलेगा, लेकिन विवाह का मुहूर्त प्रारंभ होने से कोरोना संक्रमण के रफ्तार पकड़ने से कारोबारी चिंतित भी हैं। कपड़ा व्यवसायी सुशील कुमार जैन बताते हैं कि हमलोग उम्मीद कर रहे थे कि पिछले दो साल की मंदी से इस साल उबर जाएंगे। कोरोना संक्रमण के बढ़ने से कारोबार में नुकसान होने की संभावना बढ़ती जा रही है।

तीन महीने नहीं है मुहूर्त : पंडित चेतन पांडेय बताते हैं कि अगस्त सितंबर और अक्टूबर माह में चातुर्मास लग रहा है। इसको लेकर उक्त माह में विवाह का मुहूर्त नहीं है। शेष पूरे साल शादी का मुहूर्त है। लोग अपनी सुविधा के अनुसार विवाह के लिए माह का चुनाव कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...