पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्राउटिस्ट यूथ फेडरेशन:पकरार गांव में यूथ फेडरेशन ने मनाया कौशिकी दिवस, 22 रोगों के लिए औषधि है कौशिकी नृत्य

हजारीबाग18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

ग्राम पकरार में सोमवार को यूनिवर्सल प्राउटिस्ट और गर्ल्स प्राउटिस्ट यूथ फेडरेशन, हजारीबाग के द्वारा कौशिकी दिवस मनाया गया। महिलाओं ने अभ्यास कर प्रतिस्पर्धा में भाग लिया। आनंद मार्ग के प्रवर्तक श्रीश्री आनंदमूर्ति ने छह सितंबर 1978 को कौशिकी नृत्य का प्रवर्तन किया था। महिला प्रशिक्षक अवधुतिका आनन्द राजिता आचार्या ने बताया कि गुरु श्री श्री आनंदमूर्ति जी कौशिकी नृत्य के जन्मदाता हैं।

यह नृत्य शारीरिक और मानसिक रोगों की औषधि है। विशेषकर महिला जनित रोगों के लिए रामबाण है। इस नृत्य के अभ्यास से 22 प्रकार के रोग दूर होते हैं। सिर से पैर तक अंग प्रत्यंग और ग्रंथियों का व्यायाम होता है। मनुष्य दीर्घायु होता है। यह नृत्य महिलाओं के सुप्रसव में सहायक है। मेरुदंड के लचीलेपन की रक्षा करता है। मेरुदंड, कंधे, कमर, हाथ और अन्य संधि स्थलों का वात रोग दूर होता है।

मन की दृढ़ता और प्रखरता में वृद्धि होती है। कौशिकी नृत्य महिलाओं की अनियमित ऋतुस्राव जनित त्रुटियां दूर करता है। त्वचा पर परी झुर्रियों को ठीक करता है। आलस्य दूर भगाता है । नींद की कमी के रोग को ठीक करता है। हस्टिीरिया रोग को ठीक करता है। यह नृत्य लड़कियों के लिए विशेष है। साथ ही लड़कों के लिए भी यह उतना ही फायदेमंद है। कार्यक्रम को सफल बनाने में बासुदेव महतो, सीता देवी, प्रीति देवी, शंभू दादा, स्वीटी कुमारी, ज्योति रंजन, देवाशीष, पंकज, रूपेश, सूरज के साथ साथ टीम के सभी लोगो का सराहनीय योगदान रहा।

खबरें और भी हैं...