पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हादसे में मौत:दमदमी पहाड़ी की माइंस के पानी भरे गड्ढे में गिरने से वृद्ध की मौत, बेटी से मिलने जा रहे थे

हुसैनाबाद5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
इसी माइंस के गड्‌ढे में डूब गया। - Dainik Bhaskar
इसी माइंस के गड्‌ढे में डूब गया।
  • हुसैनाबाद के घघरा का रहने वाला था रामनंदन, बेटी के घर कंचनपुर जरही जा रहा था
  • परिजनों ने शव ऊपर आने पर हुसैनाबाद पुलिस को दी सूचना,इसके बाद शव निकाला गया
  • खदान के गड्‌ढे में पानी भर जाने से अक्सर होता रहता है हादसा

हुसैनाबाद थाना क्षेत्र के घघरा गांव के 85 वर्षीय वृद्ध की मौत दमदमी पहाड़ी में स्थापित माइंस के गड्ढे में भरे पानी में डूबने से हो गई है। घाघरा के राम नंदन रजवार रविवार को अपने घर से बेटी के घर जाने के लिए कंचनपुर जरही गांव के लिए निकला था। जरही गांव जाने के क्रम में दमदमी गांव के बॉस महादेव कंस्ट्रक्शन कंपनी के द्वारा विस्फोट कर पत्थर निकालने के क्रम में बने गड्ढे में अचानक पैर फिसलने से वृद्ध गड्ढे में चला गया और डूब गया। इस कारण उसकी मौत हो गई। परिजनों ने काफी खोजबीन की,लेकिन पता नहीं चल पाया। सोमवार की देर शाम जब वृद्ध का शव पानी के ऊपर आया तो परिजनों ने हुसैनाबाद थाना को सूचना दी।

इसके बाद हुसैनाबाद पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर थाना लाया। राम नंदन राम के शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया। व्यापार मण्डल अध्यक्ष सह दक्षिणी जिला परिषद के प्रत्याशी कृष्ना बैठा ने कहा कि माइंस में लगी कंपनी की लापरवाही से राम नंदन रजवार की मौत हुई है। उन्होंने कहा कि मृतक के परिजनों को उचित मुआवजा दिया जाए,नहीं तो ग्रामीणों के साथ मिलकर कंपनी के द्वारा उठाए जा रहे कदम पर आंदोलन करेंगे।

निर्देशों का पालन नहीं करते संचालक

माइनिंग विभाग के द्वारा माइंस में काम कर रहे कंस्ट्रक्शन कंपनी को निर्देश दिया गया है कि खदानों में विस्फोट के बाद बने गड्ढे को पत्थर निकालने के बाद बचे मलबे से भर देना है,ताकि आगे कोई अप्रिय घटना न घट सके। लेकिन दमदमी में करीबन आधा दर्जन माइंस वालों ने विस्फोट के बाद गड्ढा को नहीं भरा है। इससे लगातार मनुष्य के साथ पशु की मौत होती है। वहीं माइनिंग विभाग के अधिकारियों के द्वारा बीच-बीच में महज कागज पर ही जांच हो जाती है,जिससे गड्ढे में बरसात के दिनों में पानी भर जाता है।

पलामू कोर्ट में पदस्थापित पुलिस जवान की सड़क दुर्घटना में मौत, सिमडेगा के रहने वाले थे बसंत नायक

पलामू में पदस्थापित झारखंड पुलिस के जवान बसंत नायक (45वर्ष) की मौत गुमला में सड़क दुर्घटना में हो गई। मृत जवान सिमडेगा जिले के बसुरिया गांव का रहने वाला था। छह वर्ष से पलामू में कार्यरत था। मोटरसाइकिल से घर जाने के दौरान किसी वाहन ने उनकी बाइक में टक्कर मार दी। इसमें उन्होंने दम तोड़ दिया। गुमला अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद पुलिस लाइन में सलामी देकर जवान के शव को सिमडेगा के बसुरिया स्थित आवास पर भेजा गया है। पुलिस जवान बसंत नायक की ड्यूटी पलामू व्यवहार न्यायालय के सेशन कोर्ट में थी। 11 से 18 सितम्बर तक नायक छुट्टी पर थे। बसुरिया अपने घर से सोमवार की शाम पुलिस जवान गुमला में आए थे। देर शाम बाइक से ही घर लौटने के दौरान किसी वाहन ने उन्हें अपनी चपेट में ले लिया। पुलिस एसोसिएशन के अध्यक्ष मंगल सिंह सोय, पुलिस मेंस एसोसिएशन के अध्यक्ष अक्षय सिंह पासवान, केन्द्रीय सदस्य संदीप राम, अंकेक्षक सबरे आलम ने जवान के पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। तत्काल 25 हजार रुपए की सहायता राशि दी गई।

दो मोटरसाइकिल की टक्कर में शिक्षक की मौत, दो लोग हुए घायल

कुटमु केचकी मार्ग के हड़पड़वा यात्री शेड के पास दो बाइक की भिड़ंत मंगलवार को हो गई। इसमें उर्दू मध्य वि पोखरीकला के शिक्षक चुनेश्वर सिंह गम्भीर रूप से घायल हो गया। इसकी मौत इलाज के दौरान एमएमसीएच मेदिनीनगर में हो गई। चुनेश्वर हीरो होंडा बाइक से पोखरीकला से मेदिनीनगर की जा रहे थे। जबकि अपाचे मोटरसाइकिल से राजा उरांव,अजय कुमार मेदिनीनगर से बेतला की ओर आ रहे थे।इस दौरान दोनों मोटरसाइकल के बीच भिड़ंत हो गई। इसमें अपाचे सवार राजा,अजय कुमार भी घायल हो गए हैं।

खबरें और भी हैं...