पूजा- पाठ / सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर महिलाओं ने की वट वृक्ष की पूजा, पति की लंबी आयु के लिए रखा व्रत

X

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

जारी.  अखंड सुहाग की कामना करते हुए शुक्रवार को सुहागिन महिलाओं ने बरगद के पेड़ (वट वृक्ष) पर कलावा लपेटकर वट सावित्री की पूजा की। सुबह से सजी-धजी महिलाएं अपने पति की लंबी दीर्घायु के लिए बरगद वृक्ष के समीप एकत्रित हुई अलग अलग जगह में लगे बरगद पेड़ के पास समूह बनाकर पूजा किया। इस दिन बरगद के वृक्ष की पूजा करके महिलाएं देवी सावित्री के त्याग, पति प्रेम एवं पतिव्रत धर्म का स्मरण करती हैं। यह व्रत स्त्रियों के लिए सौभाग्यवर्धक करने वाला है। इस व्रत में वट वृक्ष का बहुत महत्व होता है। यह ज्येष्ठ कृष्ण अमावस्या को मनाया जाता है। इसके साथ सत्यवान सावित्री की कथा जुड़ी हुई है। जिसमें सावित्री ने अपने संकल्प और श्रद्धा से यमराज से सत्यवान के प्राण वापस ले लिए थे। महिलाएं भी संकल्प के साथ अपने पति की आयु और प्राण रक्षा के लिए इस दिन व्रत और संकल्प लेती है। पुरोहित नंद किशोर नंद ने बताया कि इस व्रत को करने से सुखद और संपन्न दांपत्य जीवन का वरदान मिलता है। मान्यता है कि वट सावित्री का व्रत संपूर्ण परिवार को एक सूत्र में बांधे रखता है बट वृक्ष (बरगद) एक देव वृक्ष माना जाता है। बताया जाता है कि ब्रह्मा विष्णु महेश और सावित्री वट वृक्ष में ही रहते हैं। जारी प्रखंड की महिलाओं ने पूरे विधि-विधान से वट सावित्री की पूजा कर पति की लंबी आयु की कामना की। कोरोना महामारी के चलते तमाम दिशानिर्देश का महिलाओं ने पालन किया। इस दौरान निश्चित भौतिक दूरी बनाए रखते हुए वटवृक्ष के फेरे लिए।  पूजा के दौरान करोना महामारी का काफी प्रभाव दिखा इस बार महिलाएं कम ही घरो से निकली महिलाएं घरों पर ही पेड़ की टहनी मंगा कर पूजा अर्चना की।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना