मकर सक्रांति त्यौहार:मास्क लगाकर मंत्रों का जाप और मन में आस्था लिए मकर सक्रांति पर 2500 श्रद्धालुओं ने की मां भद्रकाली की पूजा

इटखोरी3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • इस वर्ष भी गिद्धौर से आई मंडली ने एक से बढ़कर एक मां के भजन गाए

मकर सक्रांति त्यौहार के मौके पर कोविड प्रोटोकॉल नियमों का पालन करते हुए ढाई हजार श्रद्धालुओं ने मां भद्रकाली की पूजा-पाठ की। 11 से 12 बजे दिन तक अचानक मां की भक्तों की बड़ी संख्या में भीड़ पूजा-पाठ के लिए जुटी। 12 बजे मंदिर का पट्ट मां का भोग के लिए बंद कर दिया गया। इसके बाद 1 से 3 बजे दिन तक श्रद्धालुओं की भीड़ मां के दर्शन- पूजन के लिए जुटी रही। यहां इस बीच स्थानीय और बाहर से आए श्रद्धालु मंदिर के बाहर साधना चबूतरा पर कतारबद्ध होकर मंदिर प्रवेश की।

श्रद्धालुओं ने मकर सक्रांति के मौके पर मां की पूजा-पाठ कर सुख समृद्धि और संतान के लिए मन्नते मांगते रहे। बाहरी श्रद्धालुओं का आगमन कम हुआ। श्रद्धालुओं ने बनपोखर के पास चूड़ा गुड़ और तिलकुट का लुत्फ अपने परिजनों के साथ उठाए।

मंदिर के पुरोहित मनोज पांडे ने कहा कि मकर सक्रांति पर नदी स्नान का खास महत्व होता है। वर्ष की भांति इस वर्ष भी गिद्धौर थाना क्षेत्र के पेक्सा बारिसाखी के रामायण कथा मंडली संगीत ग्रुप द्वारा कोटेश्वर नाथ स्थल में एक से बढ़कर एक भजन की प्रस्तुति दिया गया। बिहार और बंगाल से आए कलाकारों ने बेहतरीन भजन की प्रस्तुति देकर उपस्थित लोगों को खूब झुमाए। यह आयोजन सहदेव सीताराम व्यास मंडली संगीत के द्वारा प्रस्तुत किया गया।

खबरें और भी हैं...