पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोडरमा काे पर्यटन के मानचित्र पर लाने की तैयारी:तिलैया डैम सहित पांच पर्यटन स्थलों के विकास के लिए 1 करोड़ की स्वीकृति

कोडरमा4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पर्यटन स्थल तक पहुंचने के रास्ते को दुरुस्त करने पर खर्च होंगे पैसे

जिला प्रशासन ने जिले के पर्यटक स्थलों के अलावा धार्मिक स्थलों को राज्य स्तर पर उभारने की कोशिश प्रारंभ की गई है। इसके लिए जिले के उपायुक्त आदित्य रंजन द्वारा कई योजनाओं को अंतिम रूप देते हुए इसपर कार्य शुरू करने का निर्देश दिया गया है। निर्देश के बाद कई योजनाओं क्रियान्वयन को लेकर निविदा की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है।

जिले के इन पर्यटक स्थलों एवं धार्मिक स्थलों के विकास से जिल में काफी संख्या में अन्य क्षेत्रो से लोगो के यहां पहुंचने की उम्मीद जताई गई है, साथ ही इससे जिले में रोजगार के अवसर भी पैदा होने की उम्मीद जताई गई है। इन स्थलों के विकास के तहत यहां सड़कों के निर्माण के अलावा कई अन्य प्रकार के सौंदर्यीकरण के कार्य कराए जाने है। जिसमें शौचालय, शेड, सीढ़ी, कियोस्क सहित अन्य प्रकार के निर्माण शामिल है।

पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए जिला प्रशासन द्वारा शुरू की गई कवायद के तहत जिले के डोमचांच प्रखंड अंतर्गत चंचाल धाम पहाड़ी तक पहुंचने के लिए लगभग 25 लाख की राशि से रास्ते का सुदृढ़ीकरण के अलावा 12.69 लाख की लागत से पेयजल व्यवस्था कराए जाने को लेकर टेंडर की प्रक्रिया पूरी की जा रही है। इसके अलावा जिले के चर्चित पर्यटक स्थल तिलैया डैम के सौंदर्यीकरण के तहत वहां पर्यटकों की सुविधा के लिए कई प्रकार की व्यवस्था किए जाने को लेकर लगभग 21.41 लाख की राशि से कार्य शुरू की जा रही है।

वहीं कोडरमा प्रखंड अंतर्गत वृंदाहा फॉल में सैलानियो के आवागमन को सुलभ बनाने के लिए लगभग 25 लाख की लागत से रास्ते का निर्माण कराया जा रहा है। वहीं मरकच्चो प्रखंड के करमा बाबा धाम के रास्ते के सुदृढ़ीकरण के लिए लगभग 22 लाख की राशि से वहां रास्ता के अलावा पेयजल व्यवस्था की योजना को अंतिम रूप दी गई है। इन सभी योजनाओं की निविदा एक-दो दिनो में पूरी कर लिए जाने की संभावना है।

कुछ अन्य योजनाओं को भी दिया जाएगा अंतिम रूप

पर्यटक विभाग के पदाधिकारी प्रवीण कुमार के अनुसार जिला प्रशासन द्वारा पर्यटन के विकास को लेकर झरनाकुंड में रोड, शौचालय के अलावा अन्य सौंदर्यीकरण के कार्य की भी रूपरेखा तैयार की गई है। इसके अलावा सतगावां प्रखंड के धार्मिक स्थल घोड़सिमर, पेट्रो जल प्रपात, जयनगर प्रखंड के खरियोडीह बाबा धाम के सौंदर्यीकरण, चंदवारा के पूतो में दोमुहानी धाम के सौंदर्यीकरण को लेकर भी जल प्रस्ताव तैयार कर भेजा जाएगा।

खबरें और भी हैं...