झारखंड शिक्षा परियोजना:सरकारी स्कूलों में 89214 छात्र-छात्राओं को उपलब्ध कराई जा रही है निशुल्क पोशाक

कोडरमाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कक्षा 1 व 2 के छात्रों के लिए प्रति छात्र 600 व 3 से 8वीं कक्षा के छात्रों के खाते में रखे जा रहे 720 रुपए

झारखंड शिक्षा परियोजना की ओर से वित्तीय वर्ष 2021-22 के दौरान सरकारी स्कूलों में अध्ययनरत छात्र छात्राओं को नि:शुल्क पोशाक उपलब्ध कराने के लिए आवंटित राशि छात्रों के खाते में स्थानांतरित की जा रही है। जानकारी के अनुसार जिले में कक्षा 1 से 8वीं तक सरकारी स्कूलों के कुल 89 हजार 214 छात्र छात्राओं को नि:शुल्क पोशाक उपलब्ध कराए जाने है।

कुल छात्र छात्राओं में 19 हजार 434 छात्र छात्राएं कक्षा 1 से 2 तक के है, जबकि कक्षा 3 से 8वीं तक कुल छात्र छात्राओं की संख्या 69780 बताई गई है। जिसमें 33409 छात्र व 36371 छात्रा है। इस संबंध में जानकारी देते हुए झारखंड शिक्षा परियोजना के अतिरिक्त जिला कार्यक्रम पदाधिकारी शिव कुमार मल्लिक ने बताया कि कक्षा 1 व 2 के छात्र छात्राओं को नि:शुल्क पोशाक उपलब्ध कराने के लिए आवंटित राशि स्कूल के एसएमसी के खाते में भेजी जा रही है। जबकि कक्षा 3 से 8वीं तक के वैसे छात्र छात्राएं जिनका खाता खोला जा चूका है, राशि उनके खाते में भेजी जा रही है। जबकि जिन छात्र छात्राओं का खाता नहीं खोला जा सका है उन्हें यह राशि वहां के एसएमसी के खाते में भेजी जा रही है।

उन्होंने बताया कि पोशाक के लिए आवंटित किए जा रहे राशि में 1 से 5वीं कक्षा के छात्र छात्राओं के लिए प्रति छात्र 600 रुपए निर्धारित किए गए है। जबकि कक्षा 6 से 8वीं तक के छात्र छात्राओं के लिए पोशाक मद में प्रति छात्र 760 रुपए निर्धारित किए गए है। एडीपीओ ने बताया कि आवंटित राशि से छात्रों को एक जोड़ा पोशाक, एक फुल स्वेटर के अलावा एक जोड़ा जूता की खरीददारी की जानी है।

उन्होंने बताया कि आवंटित राशि से छात्रों की ओर से खरीदे जाने वाले पोशाक से संबंधित उपयोगिता प्रमाण पत्र भी जमा करना जरूरी है। इसके लिए सभी स्कूलों के प्रभारी प्रधानाध्यापकों को निर्देश दिया गया है। साथ ही सभी बच्चो के लिए पोशाक की खरीददारी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए है।

जिले के सरकारी स्कूलाें में अध्ययनरत कक्षा 3 से 8वीं तक के कुल 49 हजार 459 छात्र छात्राओं के ही खाता खोले जा सके है। जबकि 20 हजार 320 छात्र छात्राओं के खाते नहीं खोले गए है। उल्लेखनीय हो कि छात्र छात्राओं को छात्रवृति के अलावा विभाग स्तर से पोशाक सहित कई अन्य योजनाओं का लाभ डीबीटी के माध्यम से राशि खाते में स्थानांतरित कर दिए जाने का निर्देश जारी किया गया है।

बावजूद इसके जिले के सभी सरकारी स्कूलों के छात्र छात्राओं का शत प्रतिशत बैंकों में खाते नहीं खोले जा सके है। इस संबंध में एडीपीओ मल्लिक ने बताया कि जिन छात्रों ने हाल में नामांकन लिया है, उनके खाते खोलने की प्रक्रिया पूरी की जा रही है। वहीं कुछ छात्रों का खाता बैंक के वजह से अब तक नहीं खुल सके है।

खबरें और भी हैं...