पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सौहार्दपूर्ण वातावरण:मस्जिदों और अपने-अपने घरों में लोगों ने ईद उल अजहा की विशेष नमाज अदा की मुल्क की सलामती की दुआ मांगी

कोडरमा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में ईद-उल-जुहा (बकरीद) का त्योहार बुधवार को पूरे पाकीजगी व सौहार्दपूर्ण वातावरण में मनाया गया। मौके पर मुस्लिम धर्मावलंबियों ने विभिन्न मस्जिदों व अपने अपने घरों में ईद-उल-जुहा (बकरीद) की विशेष नमाज अदा की। ईद-उल-जुहा (बकरीद) के मौके पर मस्जिदों में कोविड-19 के मद्देनजर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए कम संख्या में लोगों ने मस्जिदों में नमाज अदा किया। वहीं घरों में भी लोगों ने जमात के साथ ईद उल अजहा की नमाज अदा किया। ईद-उल-जुहा (बकरीद) की दो रकाअत सुकराना नमाज के बाद लोगों ने भाईचारगी व देश-दुनिया की अमन चैन व खुशहाली की दुआ मांगी।

दुआ के पश्चात लोगों ने एक-दूसरे को ईद की मुबारकबाद दिया। जामा मस्जिद असनाबाद में ईद-उल-जुहा (बकरीद) की नमाज जामा मस्जिद के इमाम मुफ्ती सरफराज अहमद ने अदा कराई। वहीं छतरबर मस्जिद में बकरीद की नमाज मौलाना असदक ने अदा कराई। बाराटोला मस्जिद में ईद-उल-जुहा (बकरीद) की विशेष नमाज हजरत मौलाना कमरुद्दीन कासमी ने अदा कराई। इसी प्रकार जिले के विभिन्न मस्जिदों में वहां के इमाम ने ईद उल अजहा की नमाज अदा कराया। पूरे जिले में शांतिपूर्ण वातावरण में पर्व मनाया गया।

कहीं से भी किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली है। बकरे को जिब्हा कर हजरत इब्राहिम अलैहे इस्लाम की सुन्नत को अदा किया : ईद-उल-जुहा (बकरीद) के नमाज के बाद लोगों ने अपने-अपने घरों में बकरे को जिब्हा कर हजरत इब्राहिम अलैहे सल्ल. की सुन्नत को अदा किया। मौके पर बकरे के गोस्त को तीन हिस्सों में बांटकर रिश्तेदारों व गरीब परिवारों को अपनी खुशी में शामिल किया।

कोरोना संक्रमण को लेकर मस्जिदों में कोई चहल पहल नहीं देखी गई : ईद उल अजहा के मौके पर मस्जिदों में नमाज के अलावा किसी भी तरह की कोई चहल कदमी नहीं रही। इसका मुख्य कारण कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार व जिला प्रशासन की ओर से दिए गए निर्देश के आलोक में मस्जिदों के बाहर किसी भी तरह का मेला व भीड़भाड़ नहीं देखा गया। लोग सादगी के साथ कम संख्या में मस्जिद पहुंचकर सामाजिक दूरी का पालन करते हुए ईद उल अजहा की नमाज अदा करते देखे गए।

खबरें और भी हैं...