बैठक:सावन महीने में मंदिरों में पूजा पाठ पर लगी रहेगी रोक, कांवर पदयात्रा भी रहेगी स्थगित

कोडरमाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • वैश्विक महामारी कोरोना वायरस को लेकर डीसी की अध्यक्षता में समीक्षात्मक बैठक आयोजित

उपायुक्त रमेश घोलप की अध्यक्षता में बिरसा सांस्कृतिक भवन में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस को लेकर समीक्षात्मक बैठक हुई। मौके पर उपायुक्त ने कोविड-19 की समीक्षा करते हुए कंटेनमेंट जोन को लेकर जानकारी प्राप्त किया। मौके पर उन्होंने कंटेनमेंट जोन को लेकर कई आवश्यक निर्देश दिए। उपायुक्त ने प्रखंड के बीडीओ, सीओ व थाना प्रभारी को निर्देश देते हुए कहा कि किसी भी इलाके में कोई व्यक्ति कोरोना पॉजेटिव पाये जाते हैं, तो शीघ्र उस एरिया को कंटेनमेंट जोन बनाए और एरिया को सील करे।

उन्होंने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से समन्वय स्थापित करते हुए उसके परिवारजनों को क्वारेंटाइन करते हुए सैंपल कलेक्ट कराना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। मौके पर डीसी ने कहा कि संदिग्ध मरीज के हाई रिस्क व लॉ रिस्क संपर्क में आने वाले लोगों की सूची तुरंत तैयार कर क्वारेंटाइन सेंटर भेजना सुनिश्चित करे। वहीं स्वास्थ विभाग को इन सभी का सैंपल कलेक्शन लेने का निर्देश दिया गया। वहीं एसपी डॉ. एतेहशाम वकारिब ने पदाधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि कोई भी व्यक्ति अनावश्यक रूप से घर से बाहर न निकले, यह सुनिश्चित करें। मौके पर डीडीसी आलोक त्रिवेदी, डीआरडीए निदेशक नेलसम एयोन बागे, एसी अनिल तिर्की, एसडीओ विजय वर्मा, एसडीपीओ राजेन्द्र प्रसाद, गोपनीय प्रभारी जयपाल सोय, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी शिवनंद बड़ाइक के अलावा सभी प्रखंडों के बीडियो, सीओ व थाना प्रभारी मौजूद थे।     

धार्मिक स्थलों पर पूजा-पाठ बंद रहेंगे-डीसी : बैठक में उपायुक्त ने कोरोना महामारी को देखते हुए पदाधिकारियों को कोई भी धार्मिक स्थल पर पूजा-पाठ न हो यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। वहीं धार्मिक स्थलों पर एक से ज्यादा लोगों के एक साथ पूजा-पाठ करने से कोरोना संक्रमित होने का खतरा बढ़ सकता है। इसी को ध्यान में रखते हुए यह सुनिश्चित करें कि सावन माह में कोई भी व्यक्ति मंदिरों में या अन्य धार्मिक स्थलों में पूजा-पाठ न करें।  बैठा कर खिलाने वाले दुकान को करें बंद : उपायुक्त ने कहा जिन होटलों या दुकानों को खोलने की अनुमति दी गई है, वैसे दुकानों में पैंकिंग की ही सुविधा होना चाहिए और वैसे होटल या ठेला वाले, जहां बैठाकर सामग्री खिलाने की सुविधा रखे हो, वैसे दुकानों को चिन्हित करते हुए बंद कराना सुनिश्चित करेंगे।

जिन दुकानों को खोलने की अनुमति नहीं दी गई है, अगर वैसे दुकान खुले हुए पाए जाते हैं, तो उनके खिलाफ कार्रवाई करना भी सुनिश्चित करेंंगे। उपायुक्त ने जिन दुकानों को खोलने की अनुमति नहीं है, फिर भी दुकान खुला पाया जाता है तो उन संचालकों को क्वारेंटाइन सेंटर में लाकर सैंपल कलेक्शन करने का निर्देश दिया।इन गतिविधियों पूरी तरह रहेगी पाबंदी : उपायुक्त घोलप ने बताया कि 31 जुलाई तक राज्य में जारी लॉक-डाउन के दौरान कुछ गतिविधियों पर पूर्णतः पाबंदी रहेगी। जैसे धार्मिक स्थल, सामाजिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षणिक, सांस्कृतिक धार्मिक कार्यक्रम, स्कूल, कॉलेज, प्रशिक्षण, कोचिंग, सिनेमा हॉल, जिम, स्वीमिंग पुल, मनोरंजन पार्क, थिएटर, सभा भवन, राज्य के भीतर व राज्य के बाहर बस परिचालन, शापिंग मॉल, होटल, लॉज, धर्मशाला, रेस्टोरेंट, स्पा, सैलून। वहीं अनावश्यक रूप से रात के 9 बजे से सुबह 5 बजे तक घूमना प्रतिबंधित रहेगा। शादी समारोह में अधिकतम 50 व्यक्ति व अंतिम संस्कार कार्यक्रम में अधिकतम 20 लोग ही भाग ले सकते हैं।

खबरें और भी हैं...