वैक्सीनेशन शिविर:4 प्रखंडों के 1236 लोगों को दिया गया कोविड वैक्सीन, 125 लोगों का लिया गया स्वाब सैंपल

इटखोरीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारत में कोरोना का नए वेरिएंट में ओमिक्राॅन महामारी की दस्तक को लेकर इटखोरी अस्पताल प्रबंधन इन दिनों काफी गंभीर है। यहां रोज के रोज वैक्सीनेशन कार्य में तेज़ी और कोरोना जांच में इजाफा किया जा रहा है। मंगलवार को इटखोरी अस्पताल प्रबंधन द्वारा इटखोरी, मयूरहंड, गिद्धौर और पत्थलगड़ा प्रखंड के कुल 15 स्थानों पर कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीनेशन शिविर का आयोजन किया गया।

इन पन्द्रह स्थानों पर कुल 1236 लोगों ने कोरोना का वैक्सीन लिए। जिसमें इटखोरी सीएचसी में 100, परसौनी 153, करनी 60, नवादा 122 व मयूरहंड पीएचसी में 72, करमा 70, फुलांग 112, पंदनी 79, मंझगांवा 50 एवं गिद्धौर पीएचसी में 91, द्वारी 61, पहरा 32, बरवाडीह 51, नुनगांव में 83 और मेराल में आयोजित वैक्सीनेशन शिविर में 100 लोगों ने कोरोना का वैक्सीन लिए।

इन सभी वैक्सीनेशन केंद्रों पर पहले की अपेक्षा वैक्सीन लेने वाले लोगों की संख्या में इजाफा हुआ है। यह इजाफा ओमिक्राॅन की दस्तक को लेकर हुआ है। इन केंद्रों पर किसी ने पहली तो किसी ने दूसरी डोज लिया। आयोजित शिविर में वैक्सीनेशन के लिए वैक्सीन से वंचित लोगों की अच्छी-खासी भीड़ ओमिक्राॅन वेरिएंट की खतरे से बचाव के लिए इकट्ठा हो रही है। ओमिक्राॅन की खतरे को देखते हुए इटखोरी अस्पताल प्रबंधन ने इटखोरी अस्पताल परिसर में ही 7 दिसंबर को कोरोना जांच शिविर का आयोजन की। आयोजित शिविर में 125 राहगीरों और आसपास के लोगों की कोरोना जांच के लिए स्वाब सैंपल लिया गया। जिसमें 36 लोगों के स्वाब सैंपल को तुरंत ट्रूनेट मशीन से अस्पताल में ही जांच किया गया।

सुखद खबर यह है, कि जिसका रिजल्ट नेगेटिव आया है। इस संबंध में अस्पताल के चिकित्सा प्रभारी डॉ सुमित कुमार जायसवाल ने बताया कि शेष बचे स्वाब सैंपल की आरटीपीसीआर जांच के लिए हजारीबाग मेडिकल कॉलेज भेजा गया है। जिसकी जांच कर उनके रिपोर्ट को सार्वजनिक कर दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...