पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सहायता प्रदान:बच्चों को भी संयमपूर्वक सुनें तभी उनका मानसिक व भावनात्मक तनाव दूर होगा

कोडरमाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कॉल आने के उपरांत चाइल्ड लाइन की टीम तुरंत ऐसे बच्चों तक पहुँच कर सहायता प्रदान कर रही

वैश्विक महामारी कोरोना काल में लॉकडाउन ने हर किसी की दिनचर्या को अस्त-व्यस्त कर दिया है। ढिबरा चुनकर या दिहाड़ी-मजदूरी कर दो वक्त का भोजन जुगाड़ करने वाले लोगों पर इसका कहर टुट रहा है। ऐसे लोग खुद को बहुत ही असहाय व बेबस महसूस करने लगे हैं। घरों में कैद व मानसिक व भावनात्मक रूप से परेशान बच्चे चाइल्ड हेल्प लाइन नंबर 1098 पर कॉल कर सहायता मांग रहे है। कॉल आने के उपरांत चाइल्ड लाइन की टीम तुरंत ऐसे बच्चों तक पहुँच कर सहायता प्रदान कर रही है।

चाइल्ड लाइन के निदेशक इंद्रमणि साहू कहते हैं कि हम सभी कठिन दौर से गुजर रहे हैं। ऐसे समय में बच्चों को डांटे नहीं। बल्कि, उनके साथ समय बिताने एवं उनकी रुचि-अभिरुचि के अनुसार सहयोग करें। उन्होंने अभिभावकों से अपील की है कि बच्चों को भी संयमपूर्वक सुनें। तभी, उनका मानसिक व भावनात्मक तनाव दूर हो सकेगा। उन्होंने कहा कि बच्चे और किशोर-किशोरियां आज अपने स्कूल और कैरियर को लेकर चिंतित हैं। ऐसी चिंताभरी कई कॉल्स प्रतिदिन 1098 पर आ रहे हैं। प्राप्त कॉल्स के आधार पर चाइल्ड लाइन टीम ऐसे जरूरतमंद लोगों को राशन एवं बच्चों को समुचित सहायता पहुंचा रही है। बताते चले कि इन दिनों ग्रामीण क्षेत्रों में बालविवाह खूब हो रहे हैं। परन्तु, कुछेक मामले ही चाइल्ड हेल्प लाइन नंबर 1098 या प्रशासन तक पहुंच रही है।

खबरें और भी हैं...