पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिजली कटौती:दिन-रात लोड शेडिंग, घंटों बिजली गुल

कोडरमा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में पड़ रहे भीषण गर्मी के बीच बिजली की जारी आंख मिचौनी शहरी क्षेत्रों से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों के लिए मुसीबत बनी हुई है। दिन में भीषण गर्मी झेलने के बाद रात में भी जारी बिजली की कटौती के कारण लोगों का नींद गायब हो रहा है। वहीं बिजली की समस्या के कारण शहर के लोगो को सुचारू रूप से पेयजल भी नसीब नही हो पा रहा है।

विडंबना की बात यह है कि जिले में पर्याप्त मेगावाट में बिजली उपलब्ध होने के बाद भी निर्बाध रूप से बिजली की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। इसके पीछे बिजली विभाग अंतर्गत बिजली के संचरण एवं वितरण के सिस्टम के पुराना पड़ जाने की बात कही जा रही है।

जबकि हाल के दिनों में ही विभाग द्वारा करोड़ों रुपए खर्च कर आरएपीडीआरपी एवं आईपीडीएस के अलावा कुछ अन्य योजनाओं के तहत ट्रांसफार्मर, बिजली के तार, ब्रेकर सहित कई पुराने सिस्टम को दुरुस्त करने का कार्य किया जा चुका है।

जिले में पर्याप्त मात्रा में बिजली की उपलब्धता के बाद भी ग्रामीण क्षेत्रों की बात तो दूर शहरी क्षेत्र झुमरी तिलैया में प्रतिदिन 5 से 6 घंटे बिजली की कटौती की जा रही है। इसके बाद भी कई बार मेंटनेंस के नाम पर बिजली बंद कर दी जाती है। लोड शेडिंग का यह सिलसिला दिन से लेकर रात तक जारी रहता है। वहीं हल्की बारिश होने के बाद कई इलाकों में कई घंटों तक बिजली नदारद हो जा रही है।

बिजली की कटौती के संबंध में कार्यपालक पदाधिकारी प्रणव तिवारी ने बताया कि शहरी क्षेत्रों में एक दो फीडर को छोड़कर अन्य फीडरों से 22 घंटे प्रतिदिन बिजली की आपूर्ति की जा रही है। उन्होंने बताया कि मोरियावां से गौशाला पीएसएस तक 33 केवीए का पुराने तार बदलने को लेकर वहां के ग्रामीणों की आपत्ति के कारण कार्य रुका हुआ है।

इस कारण बांझेडीह प्लांट से बिजली की पर्याप्त मात्रा में आपूर्ति संभव नहीं हो पा रही है। उन्होंने कहा कि इसे ठीक करने का प्रयास जारी है।

खबरें और भी हैं...