निर्जला व्रत:संतान की लंबी उम्र के लिए माताओं ने रखा 36 घंटे के लिए निर्जला उपवास

प्रतापपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिवित्पुत्रिका व्रत हर साल आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है। इसे ही जीतिया या जितिया व्रत या जिवित्पुत्रिका व्रत कहा जाता है। बुधवार को प्रखंड के विभिन्न भागो में माताएं ने अपने संतान की दीर्घायु, आरोग्य और सुखमयी जीवन के लिए 36 घंटे का निर्जला उपवास रखी है।

जिस प्रकार तीज व्रत मे पत्नी ने पति की दीर्घायु व सुखमय जीवन के लिए निर्जला व्रत रखती है। उसी प्रकार जितिया व्रत में हर मां अपनी संतान के दीर्घायु की कामना के लिए व्रत रखते हुए ईश्वर की कामना करती है। प्रखंड में मंगलवार सप्तमी तिथि को नहाय खाय, बुधवार अष्टमी तिथि को निर्जला उपवास एवं गुरुवार को नवमी तिथि को पारन होगा। इसको लेकर माताएं मृणालिनी गुप्ता, कुसुम देवी, बबिता देवी, पूजा देवी, पूनम गुप्ता, नीतू आराधना कर रही है।

खबरें और भी हैं...