पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जागरूकता अभियान:बेहतर शिक्षा से ही रुक सकेगी बाल विवाह, मजदूरी और तस्करी की समस्याएं- शालिनी

कोडरमा17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कैलाश सत्यार्थी फाउंडेशन ने बाल दुर्व्यवहार पर जन जागरूकता अभियान चलाया

कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रन फाउंडेशन की ओर से डोमचांच के बाल मित्र ग्राम बंगाखलार में बाल श्रम, बाल विवाह, बाल यौन शोषण एवं भीखमंगी के लिए होने वाले बाल दुर्व्यवहार विषय पर जन जागरूकता अभियान का आयोजन किया गया। मौके पर मुख्य रूप से जिप प्रधान शालिनी गुप्ता ने अपने संबोधन में कहा कि “बाल विवाह, बाल मजदूरी व बाल दुर्व्यवहार आदि जैसी कुप्रथाएं अशिक्षा के कारण हमारे समाज में अपनी जगह बनाए हुए हैं। इन कुप्रथाओं के प्रति लोगों को जागरूक करते हुए बेहतर शिक्षा का माहौल तैयार करने की जरूरत है, ताकि हमारे समाज में फैले इन कुरीतियों को पूर्णतः समाप्त किया जा सके। इसके लिए सबको मिलकर काम करना होगा।

उन्होंने ने विभिन्न गांवों में बाल पंचायतों के कामों और बच्चों के बीच से उभरते नेतृत्व की सराहना करते हुए कहा कि ये बच्चे वो काम कर रहे हैं मूलतः जो बड़ो को करना चाहिए। उन्होंने बच्चों व महिलाओं की अवैध खरीद फरोख्त को रोकने के लिये प्रस्तावित ट्रैफिकिंग बिल का समर्थन करते हुए कहा कि सभी राजनीतिक दलों और सांसदों को मिलकर इसे पास करना चाहिए ताकि बच्चों व महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित किया जा सके। वहीं फाउंडेशन के निदेशक ओमप्रकाश पाल ने कहा कि लॉक डाउन के दौरान बाल श्रम, बाल विवाह व ट्रैफिकिंग की घटनाएं बढ़ी है। लॉक डाउन के दौरान बचपन बचाओ आंदोलन ने पुलिस के साथ मिलकर देश में लगभग 9000 बच्चों को मुक्त कराया गया है। उन्होंने बताया कि विगत तीन माह में कोडरमा जिले में कुल 21 बाल विवाह को बाल पंचायतों द्वारा रोका गया है, चार बच्चों को ट्रैफिकिंग से बचाया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिले की ब्रांड एंबेसडर सह बाल पंचायत की मुखिया राधा पांडेय ने खुद के बाल विवाह को कैसे रोका के बारे में उपस्थित ग्रामीणों को बताया।

कैलाश सत्यार्थी फाउंडेशन ने बाल दुर्व्यवहार पर जन जागरूकता अभियान चलायासाथ ही बाल विवाह, बाल श्रम जैसी सामाजिक बुराइयों के खिलाफ अभियान तेज करने की अपील की। बंगाखलार बाल पंचायत की मुखिया रूपा कुमारी ने कहा कि लॉकडाउन में बाल श्रम बढ़ने लगा है। कुछ बच्चे फिर से ढेबरा चुनने जा रहे हैं। जिन्हें रोकना होगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता मुखिया बिशनी देवी व संचालन ढाब बाल पंचायत पंचायत की पूर्व मुखिया निकिता कुमारी ने किया। मौके पर राज्य स्तरीय बाल पंचायत की सदस्य रेशमी कुमारी, काजल कुमारी, दीपिका कुमारी, ईशा, माया, छाया, प्रियंका, करिश्मा के अलावा बाल नेताओं सहित फाउंडेशन के मनोज कुमार, अमित, महेश, दीपक, संजय मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...