डीसी ने कहा:जरूरतमंदों को ही ऑक्सीजन दें, जिससे इसके अनावश्यक प्रयोग पर नियंत्रण लगे

कोडरमा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में शामिल उपायुक्त व अन्य। - Dainik Bhaskar
बैठक में शामिल उपायुक्त व अन्य।

जिले में कोविड संक्रमण को रोकने के लिए उपायुक्त रमेश घोलप लगातार पदाधिकारियों के साथ बैठक कर उनको आवश्यक दिशा निर्देश दे रहे हैं। गुरूवार को समाहरणालय सभागार में उन्होंने चिकित्सा पदाधिकारियों एवं कोविड नियंत्रण में लगे विभिन्न कोषांग के पदाधिकारियों को अपने अपने कर्तव्यों के लिए और भी ज्यादा जिम्मेदार होने की नसीहत दी।

उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन के पास पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन है, जरूरत है तो बस इसका सही प्रबंधन कर जरूरतमंदों को ससमय उपलब्ध कराने की। इस कोषांग के पदाधिकारी ऑक्सीजन की उपलब्धता, जरूरत एवं इसका समय पर रिफिलिंग की पल-पल की जानकारी रखें। चिकित्सकों को उन्होंने निर्देश दिया कि सही जरूरतमंदों को ही ऑक्सीजन दें ताकि, इसके अनावश्यक प्रयोग पर नियंत्रण किया जा सके।

मौके पर उप विकास आयुक्त आर रोनिटा, अनुमंडल पदाधिकारी श्री मनीष कुमार, सिविल सर्जन डॉक्टर ए.बी. प्रसाद, कोषांगों के नोडल पदाधिकारी, नगर परिषद के प्रशासक कौशलेश यादव, अंचल अधिकारी कोडरमा व अन्य मौजूद थे।

उपायुक्त ने सख्त निर्देश दिया कि यदि किसी की लापरवाही से या कार्य में कोताही के कारण मरीज तक ससमय ऑक्सीजन नही पहुंच पाता है और कोई अनहोनी घटना होती है तो संबंधित पदाधिकारी और कर्मी पर उचित वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। प्रशिक्षु उप समाहर्ताओं को उन्होंने निर्देश दिया कि वे डोमचांच के डीसीएचसी में साफ सफाई के कार्यों का समुचित मॉनिटरिंग करें।

उपायुक्त ने कहा कि कोविड हेल्थ सेंटर में मरीजों की देखभाल करने के लिए जरूरत के अनुरूप न्यूनतम लोग ही हो। अनावश्यक भीड़ होने से उनके भी संक्रमित होने का खतरा बना रहता है। साथ भीड़ कम होने से चिकित्सा कार्य में लगे कर्मी बिना व्यवधान के समर्पित होकर कार्य कर सकेंगे। सिविल सर्जन डॉ ए बी प्रसाद को उन्होंने निर्देश दिया कि किसी भी हाल में डीसीएचसी डोमचांच में कर्मियों की कमी ना हो।

उन्होंने कहा कि कोविड हेल्थ सेंटर में मरीज की दवाई, खानपान तथा अन्य सुविधाओं में किसी प्रकार की कमी ना हो अधिकारी यह सुनिश्चित करें। उपायुक्त ने महामारी के कारण उत्पन्न विपदा पर विजय प्राप्त करने के लिए अधिकारी एवं चिकित्सकों को आपस में समन्वय स्थापित कर टीम भावना के साथ कार्य करने का निर्देश दिया है। सभी लोग ऐसे समय में अपने अपने सरकारी दायित्वों के साथ-साथ समाज हित में नैतिक कर्तव्यों का भी निर्वहन करें।

उपायुक्त कोडरमा रमेश घोलप ने आम जनों से अपील की है कि वह कोविड के लक्षण पाए जाने पर अपने नजदीकी जांच केंद्र में जाकर अवश्य जांच कराएं। यदि लक्षण है तो टेस्ट रिपोर्ट के इंतजार किए बिना अपने चिकित्सकों के परामर्श से दवाई और इलाज प्रारंभ कर दें। विलम्ब होने पर समस्या बढ़ सकती है। होम आइसोलेशन के मरीज दवा लेने के साथ-साथ अपना शारीरिक तापमान एवं ऑक्सीजन लेवल की जांच करते रहें। किसी भी प्रकार की समस्या होने पर चिकित्सीय परामर्श अवश्य लें।

खबरें और भी हैं...