कैंप आयोजित:3 दिनों से थमी रफ्तार फिर हुई तेज, 24 घंटों में 164 नए मामले,कोडरमा के आरटीपीसीआर की जांच अब दिल्ली व हैदराबाद की लैब में

कोडरमा3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • रिपोर्ट आने में 5 दिन से अधिक समय लगता है

कोरोना जांच के लिए लिए जाने वाले सैंपल की आरटीपीसीआर जांच में काफी समय लगने से सवाल उठ रहे है। पूर्व में आरटीपीसीआर सैंपल की जांच हजारीबाग मेडिकल कॉलेज में की जा रही थी। मगर सरकार की ओर से हाल में लिए गए निर्णय के अनुसार आरटीपीसीआर जांच का जिम्मा एक प्राईवेट एजेंसी को सौंपी गई है। जिसका लैब दिल्ली व हैदराबाद में है। 10 जनवरी से आरटीपीसीआर सैंपल की जांच इस कंपनी द्वारा शुरू की गई है, जिसके तहत 10 जनवरी से लेकर 13 जनवरी तक कंपनी को भेजे गए लगभग 7 हजार 453 सैंपल में से 5 हजार 742 सैंपल का जांच रिपोर्ट शुक्रवार को प्राप्त हुई है।

जानकारी के अनुसार सैंपल को संग्रहित करने के पश्चात इसका ऑनलाइन करने के बाद तीसरे दिन सैंपल को कंपनी द्वारा संग्रहित कर दिल्ली भेजा जाता है। इसके दो से तीन दिन बाद रिपोर्ट प्राप्त होती है। कुल मिलाकर जांच में 4 से 5 दिन का समय लग रहा है। ऐसे में जिन मरीजों का सैंपल जांच के लिए लिया गया है उससे अन्य लोगो के संक्रमित होने का खतरा बढ़ गया है।

पिछले तीन दिनो से जिले में कोरोना पॉजिटिव के मामले में आई कमी के बाद शुक्रवार को एक बार फिर कोरोना विस्फोट हुआ। जांच में कुल 164 लोग पॉजिटिव पाए गए है। वहीं कुल 896 सैंपल जांच के लिए संग्रहित किए गए है। जानकारी के अनुसार पिछले तीन दिनो से जिले में कोरोना पॉजिटिव के कम मामले सामने आने का मुख्य कारण आरटीपीसीआर रिपोर्ट नहीं आना बताया गया है। वहीं शुक्रवार को 5 हजार 742 आरटीपीसीआर सैंपल के आए रिपोर्ट में 157 मामले पॉजिटिव आने के बाद एक बार फिर पॉजिटिव मामले काफी अधिक संख्या में सामने आए है।

306 किशोरों को कोरोना का प्रथम डोज व 15 को लगाया गया बूस्टर डोज
15 वर्ष से 18 वर्ष के किशोरों के लिए टीका लगवाने को लेकर आयोजित किए जा रहे टीका महोत्सव के दौरान शुक्रवार को कुल 306 किशोरों को टीका लगाया गया। टीका लगाने को लेकर कई स्कूलों में भी कैंप का आयोजन किया जा रहा है। जयनगर में 43, कोडरमा में 184, सदर अस्पताल में 20, रेफरल अस्पताल डोमचांच में 59 लोगो को टीका लगाया गया। वहीं मरकच्चो, सतगावां व चंदवारा में एक भी बच्चे को टीका नहीं लगाया गया। झुमरी तिलैया शहर के स्कूलाें में कैंप आयोजित किए गए।

शुक्रवार को कुल 15 लोगो को कोरोना का बूस्टर डोज लगाया गया। इसमें 3 हेल्थ वर्कर, 11 फ्रंट लाईन वर्कर व एक 60 साल से उपर के बुजुर्ग शामिल है। सरकार की ओर से 60 वर्ष के लोगो को भी टीका लगाया जा रहा है। मगर इस उम्र के काफी कम लोग फिलहाल टीका लगाने के लिए पहुंच रहे है।

खबरें और भी हैं...