पदाधिकारी के प्रति आभार जताया:ये भी सरकारी कार्यालय का ही काम था, न चप्पल घिसे, न चक्कर लगाना पड़ा

कोडरमाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दिव्यांग बच्ची के साथ पहुंची मां। - Dainik Bhaskar
दिव्यांग बच्ची के साथ पहुंची मां।
  • दिव्यांग के लिए आपूर्ति कार्यालय में राशनकार्ड बनाने पहुंची महिला का आधे घंटे में बना कार्ड

आपूर्ति कार्यालय में मंगलवार को एक महिला को आयुष्मान कार्ड बनाने में न चप्पल घिसा, न रोज-रोज चक्कर लगाने पड़े। नियम से काम हो तो समय और साधन दोनों की बचत होती है। अपनी दिव्यांग बच्ची के इलाज के लिए आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए आपूर्ति कार्यालय पहुंची एक महिला का जिला आपूर्ति पदाधिकारी प्रमोद राम की पहल पर मात्र आधे घंटे में राशनकार्ड बन गया। इसे लेकर महिला ने पदाधिकारी के प्रति आभार जताया है।

झुमरी तिलैया के बजरंग नगर मुहल्ले की रहने वाली भारती देवी ने बताया कि उसकी चार साल की बच्ची दिव्यांग है। वह बोलने व सुनने के अलावा चलने में भी अक्षम है। उसके इलाज के लिए आयुष्मान कार्ड बनाने को लेकर वह मंगलवार को आपूर्ति कार्यालय पहुंची थी, जहां पदाधिकारी ने उसकी बातों को सुनकर तत्काल प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को उसके कागजात की छानबीन कर राशन कार्ड बनाने का निर्देश दिया।

पदाधिकारी प्रमोद राम ने बताया कि आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए राशन कार्ड बनाया जाना जरूरी है। महिला की ओर से दी गई जानकारी के बाद उसने इसे गंभीरता से लेते हुए कार्ड बनाने का निर्देश दिया। महिला को लाल कार्ड उपलब्ध करा दिया गया है, जिससे की उसका गोल्डन कार्ड बन सके। साथ ही बच्ची का इलाज भी इस योजना के तहत नि:शुल्क हो सके।

खबरें और भी हैं...