अंचल कार्यालय:प्रखंड मुख्यालय में अधिकारियों के नहीं रहने का खमियाजा भुगतने को मजबूर हैं ग्रामीण

जयनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बीडीओ प्रखंड में नहीं रहकर जिला मुख्यालय से रोज आवागमन करते हैं

प्रखंड मुख्यालय में अधिकारियों के नहीं रहने का खमियाजा ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। 23 पंचायत के जयनगर प्रखंड की लगभग 1 .75 लाख ग्रामीणों को प्रखंड विकास कार्यालय एवं अंचल कार्यालय अपने कार्यों को निबटाने के लिए आना पड़ता है। लेकिन पदाधिकारी के समय पर नहीं रहने से बैरंग लौट रहे हैं या फिर दिन भर मजदूरी व अन्य जरूरी काम छोड़कर इंतजार करने में लगे रहते है।

बीडीओ के कार्यालय नियमित समय पर नहीं आने के कारण जहां लोगों को प्रमाण पत्रों के निकासी में समस्या हो रही है। इस बावत राजकुमार पासवान,समाजसेवी देवनारायण यादव, माले नेता मुन्ना यादव, राजद के राजकुमार यादव पूर्व मुखिया गनपत सहित अन्य प्रखंड वासियों कहते हैं कि जयनगर में अंचल कार्यालय से छात्र-छात्राओं को जाति, आय आवासीय के लिए ऑनलाइन के तहत निर्गत करने के लिए सरकारी समय निर्धारित 14 से 18 दिन है।

कृषकों की जमीन के नामांतरण, दाखिल खारिज ऑनलाइन की सुविधा पदाधिकारियों के समय पर नहीं पहुंचने से नहीं मिल पा रहा है। लोगों ने बताया कि बीडीओ ही सीओ का प्रभार में है। बीडीओ प्रखंड मुख्यालय में नहीं रहकर जिला मुख्यालय से प्रतिदिन आवागमन करते हैं। कभी जिला मुख्यालय की बैठक तो कभी अन्य बता कर समय पर कार्यालय नहीं आने से समस्याओं से प्रखंड के लोग त्रस्त हैं।

लोगों ने बताया कि पिछले लगभग 4 दिनों से बीडीओ सह प्रभारी सीओ कार्यालय नहीं पहुंचे है। जयनगर में लगभग 1 साल से सीओ का पद खाली है। 1 साल से जयनगर सीओ का प्रभार में चलने के कारण काम काफी बाधित हो गया है। प्रभारी सीओ द्वारा अंचल के जमीन संबंधित कार्य में रुचि नही लेते है।

खबरें और भी हैं...