उल्लंघन / वट वृक्ष में कच्चा सूत बांधकर सुहागिनों ने परिक्रमा कर पूजा-अर्चना की,सत्यवान-सावित्री की कथा सुन पति के दीर्घायु की मंगलकामना

X

  • कई सुहागिनों ने की घर में पूजा, कई जगहों पर उड़ी सोशल डिस्टेंस की धज्जी

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 07:28 AM IST

लातेहार. कोरोना महामारी पर लातेहार जिला की महिलाओं में ईश्वर की आस्था भारी पड़ी। पूरे जिले में शुक्रवार को वट सावित्री व्रत धूमधाम से मनाया गया। हिंदू धर्मावलंबी महिलाओं ने व्रत रखकर सुहाग के कल्याण व रक्षा की कामना की। व्रत को लेकर सुबह से ही वट वृक्ष के नीचे महिलाओं का हुजूम शहर के बाजारटांड़, गुरुद्वारा रोड, तापा पहाड़ी, करकट, लातेहार स्टेशन, डुरुआ के अलावे सदर प्रखंड के नावागढ़, तरवाडीह, होटवाग, पोचरा समेत कई स्थानों पर देखा गया। कुछेक स्थानों पर सोशल डिस्टेंस की धज्जी भी उड़ती दिखी। वैदिक मंत्रोच्चार के बीच महिलाओं ने पंचोपचार विधि से वट वृक्ष का पूजन किया एवं वृक्ष में कच्चा सूता बांधकर परिक्रमा किया। वहीं, कई महिलाओं ने अपने घर पर ही रहकर पूजन किया। लाल-पीली साडि़यों में सजी महिलाओं ने बताया कि वे इस पर्व को लेकर आज व्रत धारण करेंगी।
उन्होंने पूजन के उपरांत सदा-सुहागिन रहने की मन्नत मांगी है। लातेहार शहर के पंडित दिलीप शुक्ला व परमेश्वर पाठक ने इस व्रत के संदर्भ में बताया कि पुरातनकाल में सती सावित्री ने इस व्रत को किया था तथा सदा-सुहागन रहने की मंगलकामना की थी। व्रत के परिणामस्वरूप उनके पति की उम्र पूरी हो जाने के बाद भी यमराज ने पुन: जीवनदान दिया था। तबसे यह व्रत पृथ्वीलोक पर प्रचलित है और सुहागिन महिलाएं इस व्रत को धारण करती आ रही हैं। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना