कलश यात्रा:10 दिवसीय शारदीय नवरात्र कलश स्थापना के साथ शुरू

लोहरदगा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शहर में गुरुवार को 10 दिवसीय शारदीय नवरात्र कलश स्थापना के साथ शुरू हुई। इस दौरान कई स्थानों पर सार्वजनिक रूप से कलश स्थापना की गई। पहले दिन मां गौरी के पहले स्वरूप मां शैलपुत्री की पूजा की गई। बताया इनकी पूजा से जीवन में स्थिरता आती है। मां को वृषारूढ़ा, उमा नाम से भी जाना जाता है।

उपनिषदों में मां को हेमवती भी कहा गया है। जय मां दुर्गा पूजा समिति थाना परिसर में पुरोहित दीपक मुखर्जी, श्रीश्री सिद्धिदात्री दुर्गा मंदिर वीर शिवाजी चौक में पुरोहित देवघर के हरिहर त्रिवेदी व श्रीश्री दुर्गा बाड़ी में पुरोहित यादव राय द्वारा पारंपरिक ढंग से चंडीपाठ शुरू हुआ।

इसके साथ ही शहर के विभिन्न जगहों के पूजा पंडालों में दुर्गा पूजनोत्सव की तैयारियां तेज हो गई। इस बीच युवाओं के उत्साह में कमी नहीं है। हालांकि इस वर्ष भी कोविड का प्रकोप पूजा पर पड़ा है। परंतु गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष कई चीजों में छूट मिली है।

इधर भंडरा में कलश यात्रा निकाली गई। नव युवक संघ दुर्गा पूजा समिति भंडरा के सदस्यों की अगुवाई में गांव की सैकड़ों महिलाएं, युवती बच्चियों ने भौरों नदी से कलश में जल लेकर पंडाल तक आई। भौरों नदी तट पर आचार्य कमलेश शर्मा द्वारा पूजा के बाद कलश में जल उठाया गया।

खबरें और भी हैं...