ऋण मेला:328 बैंक खातों में 10 करोड़ 62लाख 80 हजार रुपए का ऋण किया गया वितरित

लोहरदगा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बैंक ऑफ इंडिया, रांची अंचल, लोहरदगा की ओर से गुरुवार को नए नगर भवन परिसर में ऋण मेला का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित जिले के उपायुक्त दिलीप कुमार टोप्पो व अन्य अतिथियों द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया गया। कार्यक्रम में 328 बैंक खातों में 10 करोड़ 62 लाख 80 हजार रुपए का ऋण वितरण किया गया।

इसमें कृषि से संबंधित 196 बैंक खातों में 98.95 लाख रु, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग से जुड़े 76 बैंक खातों में 270.3 लाख रु और खुदरा व्यापार से जुड़े 56 बैंक खातों में 693.55 लाख रु शामिल हैं। मौके पर जिला उद्योग केंद्र की महाप्रबंधक नीलिमा केरकेट्टा, जिला कृषि पदाधिकारी शिव कुमार राम, डीडीएम संजय त्रिवेदी, अग्रणी बैंक प्रबंधक सुरेंद्र कुमार नाग, पंचू भगत, भारतीय स्टेट बैंक के मुख्य प्रबंधक कुमार रंजन सहित बैंक से जुड़े पदाधिकारीगण और बड़ी संख्या में लाभुक उपस्थित थे।

किसानों को ऋण सही समय पर मिले : उपायुक्त : उपायुक्त ने कहा कि किसानों को ऋण सही समय पर मिले इसके लिए किसान, बैंक और संबंधित विभाग के पदाधिकारियों के बीच आपसी समन्वय होना बहुत जरूरी है। बैंकों की स्थापना के पूर्व किसान ऊंची दरों पर ऋण लेते थे। इस ऋण को चुकाने में किसान का सब कुछ दांव पर लग जाता था और वह अक्सर साहूकार के कर्ज से नहीं उबर पाता था।

बाद में देश की बैंकिंग व्यवस्था सुदृढ़ हुई और किसानों के काफी सस्ते दर पर ऋण मिलने लगा। इसलिए किसान जब बैंक में ऋण के लिए आवेदन देता है तो बैंक उस आवेदन की आवश्यक जांच कर तुरंत ऋण स्वीकृत करें ताकि किसान अपने किसानी कार्य की जरूरतें पूरी कर सकें। कहा कि लोहरदगा जिले में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना से 52 हजार से अधिक किसान लाभान्वित हैं।

ज्यादा से ज्यादा ऋण लें : उप विकास आयुक्त : विशिष्ट अतिथि के रूप में उप विकास आयुक्त अखौरी
शशांक सिन्हा ने कहा कि किसान ज्यादा से ज्यादा ऋण लें और उसका उपयोग कृषि कार्यों में करें। यह बहुत अच्छा प्रयास बैंकों द्वारा किया गया है। इसका किसान पूरा फायदा उठाएं। इसी तरह उद्योग के क्षेत्र में भी ऋण का सदुपयोग हो। अच्छा उद्यमी बनें।

निर्भीक होकर ऋण लें किसान : एसडीओ : अनुमंडल पदाधिकारी अरविंद कुमार लाल ने कहा कि किसान निर्भीक होकर ऋण लें और उत्पादन करें। उत्पादन की मुख्य चीजें जमीन और श्रमिक आप स्वयं हैं, पूंजी बैंक दे रही है, लेकर आगे बढें। जिला प्रशासन का सहयोग आपके साथ है। अगर ऋण सही समय पर चुकाएंगे तो उसका क्रेडिट बढ़ेगा।

योजनाओं का लाभ लें : राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति की ओर से कार्यक्रम में आए उप महाप्रबंधक गणेश टोप्पो ने कहा कि केंद्र सरकार की कई योजनाएं बैंकों से संचालित हो रही हैं। किसान के साथ इच्छुक व्यक्ति, उद्यमी, फुटपाथ विक्रेता समेत अन्य भी इन योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं। कई योजनाएं ऋण से संबंधित हैं तो कुछ पेंशन से हैं, कुछ बीमा से। कई स्कूली पाठ्यक्रमों में वित्तीय साक्षरता का विषय शामिल किया गया है जो बच्चों के लिए बहुत ही ज्ञानवर्धक साबित होगा। मुद्रा लोन की योजनाओं से कोई भी लाभान्वित हो सकता है।

खबरें और भी हैं...