पूजा- पाठ / वट वृक्षों पर रक्षासूत्र बांध कर सुहागिनों ने पति की लंबी उम्र के लिए वट सावित्री की पूजा की

Suhagins worshiped Vat Savitri for her husband's long life by tying rakshaasutra to the Vat trees.
X
Suhagins worshiped Vat Savitri for her husband's long life by tying rakshaasutra to the Vat trees.

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 08:05 AM IST

लोहरदगा. जिले में वट सावित्री पूजा पर शुक्रवार को महिलाओं ने वट वृक्ष की पूजा कर अखंड सौभाग्य की कामना की। सभी ने अपने अपने पतियों की लंबी उम्र के लिए विशेष वट वृक्ष पूजा में वृक्ष पर रक्षासूत्र बांधा और उसी वृक्ष के नीचे बैठकर पुरोहितों से कक्षा श्रवण किया। इस वर्ष कोरोना महामारी के कारण अधिकतर महिलाओं ने घर पर ही पूजा किया। वहीं कुछ महिलाओं को पूजन के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते भी देखा गया। जेठ मास की अमावस्या तिथि को मनाए जाने वाले वट सावित्री पर्व को बरगदाही अमावस भी कहा जाता है। शहर के मिलन चौक, ठाकुरबाड़ी मंदिर के निकट, गुदरी बाजार के निकट, स्वयंभू महादेव मंदिर, महादेव आश्रम, पतरा टोली, अग्रसेन पथ, सदर प्रखंड ब्लॉक सहित अनेकों स्थानों पर महिलाओं ने पूजा अर्चना की। पारंपरिक वेशभूषा में पूरे 16 श्रृंगार के साथ महिलाओं ने पूजा में भाग लिया। नव विवाहित महिलाओं में भी इस पर्व को लेकर उत्साह दिखा। बुजुर्ग महिलाएं परंपरा को आगे बढ़ाने के लिए इन महिलाओं का मार्गदर्शन कर रही थी। पुरोहित आशुतोष पाठक ने बताया कि आज की महिलाओं में भी सावित्री जैसी शक्ति है।  वे दृढ़ निश्चय कर ले तो आज भी यमराज को उनके पतियों को जीवनदान देने के लिए बाध्य कर सकती है। महिलाओं के कठोर तप और समर्पण का ही परिणाम है कि ये कठिन चुनौतियों की घड़ी में पति व परिवार के लिए विपत्तितारिणी स्वरूप बनकर अडिग रहती है। महिलाओं को सावित्री के जीवन की कहानी सुननी चाहिए और उसके गुणों को अधिक से अधिक धारण करते हुए इस पवित्र परंपरा को आगे बढ़ाना चाहिए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना