पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जल संकट:90% सूखा सागर तालाब इसी पर निर्भर है मांडू की नल-जल याेजना, गत वर्ष की तुलना में 5% भी नहीं हुई बारिश

मांडू3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मांडू. इस मानसून में अच्छी बारिश नहीं होने के चलते इस तरह से अभी तक खाली है सागर तालाब। - Dainik Bhaskar
मांडू. इस मानसून में अच्छी बारिश नहीं होने के चलते इस तरह से अभी तक खाली है सागर तालाब।

मांडू की पेयजल योजना से जुड़े तालाब और कुएं-बावड़ी खाली पड़े हैं। चिंता की लकीरें मंडराने लगी हैं। पिछले वर्ष 20 जुलाई तक 50% वर्षा हो चुकी थी इस वर्ष 5% भी नहीं हुई है। जल संकट गहराने लगा है। मांडू के सागर तालाब से नल जल योजना टिकी है नर्मदा योजना भी अधर में पड़ी हुई है इस वर्ष भी यह योजना मूर्त रूप लेते नहीं दिख रही है।

बारिश की लंबी खेंच से पर्यटन नगरी मांडू के जल स्रोत रीते पड़े हैं। पेयजल के प्रमुख स्रोत सागर तालाब में अब तक 10% भी पानी नहीं आया है जबकि अन्य जल स्रोतों के हालात भी बेहद खराब हैं। इधर पेयजल को लेकर अब चिंताएं बढ़ गई हैं। नर्मदा जल आवर्धन योजना के माध्यम से मांडू को मिलने वाला नर्मदा का जल भी अब तक मांडू नहीं पहुंच पाया है। सागर तालाब को मांडू के सौंदर्य का प्रतीक मांगा माना जाता है। रानी रूपमती मार्ग पर लंबे क्षेत्रफल में इस तालाब में जब पानी आ जाता है तो यहां से गुजरने वाले लोगों को भोपाल के तालाब जैसे नजारे देखने को मिलते हैं।

इधर जहाज महल के पास स्थित मुंज तालाब, कपूर तालाब, लाल बंग्ला तालाब, सामान तालाब और एक नंबर तालाब भी खाली पड़े हैंद्ध सागर तालाब पेयजल का प्रमुख स्रोत तो है ही इसके साथ ही यहां मांडू उत्सव के दौरान एडवेंचर स्पोर्ट्स भी होते हैं। इसके साथ ही मांडू उत्सव के दौरान यहां कई गतिविधियां होती हैं जो आकर्षण का केंद्र रहती हैं। इस बार बारिश की कमी के कारण परेशानियां पैदा हो सकती हैं। इधर जुलाई माह का दूसरा पखवाड़ा शुरू हो गया है उसके बाद भी अब तक बेहद कम बारिश हुई है।

प्रभावित होंगी ये योजनाएं
इधर मांडू में कई योजनाएं चल रही हैं इसके साथ ही होटल इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को भी उम्मीद है कि पर्याप्त बारिश के बाद पानी की समस्या दूर होगी। कंस्ट्रक्शन कार्य शुरू होंगे लेकिन बारिश में हो रही देरी के कारण अब इन्वेस्टर्स के माथे पर भी चिंता की लकीरें लिख रही हैं। अगर जल्द ही बारिश नहीं हुई तो इन्वेस्टर्स भी मांडू से मुंह मोड़ सकते हैं।

4 साल से काम जारी, नहीं पहुंचा नर्मदा का जल मांडू
इधर पिछले 4 वर्षों से चल रही नर्मदा जल आवर्धन योजना में भी समस्याएं आ रही हैं। लगभग 90% कार्य पूर्ण होने के बाद शेष कार्य को लेकर दिक्कतें आ रही हैं। मांडू में नर्मदा का जल 2019 में पहुंचना था पर अब तक भी कार्य जारी है। लोगों को उम्मीद है कि उन्हें जल्दी नर्मदा का जल सप्लाई किया जाएगा। लेकिन कार्य अवधि पूरी होने के बाद भी योजना ने मूर्त रूप नहीं लिया है।
इंद्र देवता को मनाने के लिए कर रहे जतन मांडू में हर वर्ग द्वारा इंद्र देवता को मनाने के लिए जतन किए जा रहे हैं। मान5मन्नत का दौर शुरू हो चुका है। ताकि पानी बरसें और लाेगाें काे राहत मिल सके।

खबरें और भी हैं...