पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अंत्येष्टि हाेने से समस्या:मुक्तिधाम के अभाव में रेवाकुंड तीर्थ पर करना पड़ती है अंत्येष्टि, नप अलग से व्यवस्था करेगी

मांडू19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मांडू. रेवा कुंड तीर्थ पर संत और नप अध्यक्ष प्रतिनिधि ने पहुंच कर देखी स्थिति। - Dainik Bhaskar
मांडू. रेवा कुंड तीर्थ पर संत और नप अध्यक्ष प्रतिनिधि ने पहुंच कर देखी स्थिति।
  • अस्थियां और राख इसी कुंड में डालने से नर्मदा परिक्रमावासी हाेते हैं परेशान

मांडू का प्राचीन रेवा कुंड तीर्थ मां नर्मदा परिक्रमा में विशेष महत्व रखता है। मुक्तिधाम के अभाव में यहीं पर ग्रामीण अंत्येष्टि कर अस्थियां व राख इसी कुंड में विसर्जित करते हैं। इससे परिक्रमावासी बिना जल आचमन किए दर्शन कर लाैट जाते हैं। कई बार परिक्रमावासियाें के सामने अंत्येष्टि हाेने से समस्या आती है।

अब नगर परिषद यहां मुक्तिधाम की अलग व्यवस्था कर कुंड का जीर्णाेद्धार व साैंदर्यीकरण करेगी। इसके लिए रविवार को श्रीराम मंदिर के पीठाधीश्वर डॉ. नरसिंहदासजी, नप अध्यक्ष प्रतिनिधि जयराम गावर ने पहुंचकर इसके कायाकल्प को लेकर अभियान चलाने की बात कही। नप की अनदेखी के चलते इस कुंड का गहरीकरण और साैंदर्यीकरण वर्षाें से नहीं हाे पाया है। इससे कुंड भी सूख चुका है। पूर्व पर्यटन मंत्री सुरेंद्रसिंह बघेल ने इसका जीर्णाेद्धार कराने की बात कही थी। परंतु सरकार जाने के बाद इस ओर ध्यान नहीं दिया गया।

रूपमती महल की पहाड़ियों की तलहटी में स्थित रेवा कुंड आस्था का केंद्र हाेकर परिक्रमावासियाें के यहां नहीं पहुंचने से परिक्रमा भी पूरी नहीं मानी जाती। प्राचीन ग्रंथाें में भी इसका उल्लेख है। पीठाधीश्वर ने बताया संत समागम के माध्यम से भी हम यहां की स्थिति के बारे में शासन को अवगत करा रहे हैं।

यह मां नर्मदा परिक्रमा से जुड़ा स्थान है। नर्मदा परिक्रमावासी व संत-महात्मा यहां आने के बाद स्थिति काे देख दुखी हाेकर लाैटते हैं। इस ओर पहल हाेना चाहिए। नप अध्यक्ष मालती गावर ने बताया हमने यहां मुक्तिधाम की अलग व्यवस्था के लिए प्रस्ताव बनाया है। जिसे शासन काे भेजा जाएगा। तीर्थ परिसर का साैंदर्यीकरण व गहरीकरण भी किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...