पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बेखौफ:जयनगर में जंगलों से लकड़ी के लिए धड़ल्ले से काटे जा रहे हैं पेड़

मरकच्चो2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • उसके बाद सूखने पर लकड़ी तस्कर उसे काटकर दिन के उजाले में बेखौफ़ होकर काट रहे

कोरोना महामारी में देश-प्रदेश सहित पूरा जिला ऑक्सीजन संकट से जूझ रहे हैं। इस बीच बरियारडीह वन क्षेत्र अंतर्गत कोडरमा- गिरिडीह मुख्य मार्ग स्थित देवीपुर के सांढोडीह टांड के अकासिया जंगल, अम्मर पुर, बड़की टांड आदि आसपास के जंगलों से इनदिनों लकड़ी तस्कर धड़ल्ले से पेड़ों की कटाई कर रहे हैं। लकड़ी तस्कर पहले हरे भरे पेड़ों को आग के हवाले कर रहे हैं।

उसके बाद सूखने पर लकड़ी तस्कर उसे काटकर दिन के उजाले में बेखौफ़ होकर काट रहे हैं। इस तरह का नजारा अक्सर इन जंगलों में देखा जा सकता है या फिर जंगलों में कटे पेड़ के बचे हिस्से को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है। इस मामले में वन विभाग के अफसर कुछ नहीं कर पा रहे हैं। ठोस कार्रवाई के बजाय अधिकारी एक-दूसरे पर टाल देते हैं। अब तक जिम्मेदारी तय नहीं की गयी है कि आखिर इतने बड़े पैमाने पर पेड़ों को काटकर कौन ले जा रहा है। कई एकड़ जंगल के जमीन में अकासिया, खैर, सागवान, सखुवा, गम्हार सहित विभिन्न प्रजाति के बड़े बड़े पेड़ है। इन पेड़ों पर तस्करों की नजर लग गयी है। इसी वजह से उसे जलाकर काटा जा रहा है।

खबरें और भी हैं...