पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मामला दर्ज:व्यवसायी का अपहरण कर हत्या मामले में सरगना पुलिस जवान समेत 5 गिरफ्तार

मेदिनीनगर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पत्रकारों को जानकारी देते एसपी, जब्त हथियार व पीछे खड़े अभियुक्त। - Dainik Bhaskar
पत्रकारों को जानकारी देते एसपी, जब्त हथियार व पीछे खड़े अभियुक्त।
  • 25 मई काे कंडा घाटी से अपहरण कर बिहार के व्यवसायी व उनके ड्राइवर की हत्या हुई थी

पलामू पुलिस ने बहुचर्चित मिथिलेश प्रसाद व चालक श्रवण प्रजपाति के अपहरण के मामले का उद्द्भेदन कर दिया है। पुलिस ने उपरोक्त दोनों के अपहरण व हत्या में संलिप्त गिरोह के सरगना देवघर पुलिस के जवान रमकंडा प्रखंड के पुंदागा गांव के प्रेमनाथ यादव समेत पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार अपराधियों में चैनपुर प्रखंड के बूढ़ीवीर बेलवादामर का शफीक अंसारी, ओमप्रकाश चंद्रवंशी, पुदांगा के अजय यादव, अमरेश यादव शामिल हैं।

 इसमें अजय यादव सरगना का ममेरा भाई और अमरेश यादव चचेरा भाई है। पलामू एसपी चंदन कुमार सिन्हा ने पत्रकारों को बताया कि पुलिस ने प्रेमनाथ यादव व शफीक अंसारी के घर से .315 बोर का चार बोल्ट एक्शन राइफल, .315 बोर का आठ जिंदा गोली, अपरहण की घटना में प्रयुक्त स्विफ्ट डिजायर कार (जेएच 01 डीक्यू 4010) चार मोबाइल और विभिन्न कंपनियों का सिम, अपह्त को बांधने में प्रयुक्त दो जंजीर ताला सहित बरामद किया है।

अपहरण करने के बाद ही दोनों की कर दी हत्या
एसपी ने बताया कि 25 मई की रात को 11.15 बजे नावा बाजार थाना के कंडा घाटी से स्विफ्ट डिजायर से अंबिकापुर से औरंगाबाद जा रहे मिथिलेश प्रसाद व चालक श्रवण प्रजापति का अपहरण कर लिया। मिथिलेश प्रसाद की पत्नी रीता देवी को कार में छोड़ दिया। पत्नी की सूचना पर नावाबाजार थाना ने त्वरित कार्रवाई की लेकिन कहीं कुछ पता नहीं चला। एसपी ने बताया कि दोनों को अपहरण करने के उपरांत दूसरी स्विफ्ट डिजायर से रमकंडा प्रखंड के पुंदागा गांव ले जाया गया।

जहां प्रेमनाथ यादव के भंडार पर उसको रखा गया। उसके बाद मिथिलेश प्रसाद के पुत्र से 50 लाख की फिरौती की मांग की गयी, जिसमें दस लाख पर बात बनी। हालांकि दोनों की हत्या कर पुदांगा के जंगल में गाड़ दिया। इतना ही नहीं शव के उपर नमक, यूरिया डाल दिया गया। उसके बाद पीड़ित के परिजनों से फिरौती के रूप में दस लाख की वसूली भी कर ली। उन्होंने कहा कि पुलिस ने अपराधियों के शिनाख्त पर शव को निकालने का कार्य किया तो पुलिस को दोनों का कंकाल मिला। अब पुलिस कंकाल और मृतक के पुत्र का डीएनए सैंपल जांच कराएगी।

रामगढ़ और चैनुपर थाना प्रभारी का कार्य सराहनीय, पदक की अनुशंसा
एसपी ने कहा कि गिरोह के उदभेदन करने के लिए एसआइटी का गठन किया था। जिसमें सदर एसडीपीओ के.विजयशंकर, विश्रामपुर एसडीपीओ सुरजीत, चैनपुर थाना प्रभारी उदय कुमार गुप्ता, रामगढ़ थाना प्रभारी प्रभात रंजन राय, हरिहरगंज थाना प्रभारी सुदामा कुमार दास आदि शामिल थे लेकिन इनमें से रामगढ़, चैनुपर थाना प्रभारी ने सराहनीय कार्य किया। वह दोनों को पदक दिलाने के लिए डीजीपी से अनुशंसा करेंगे। मौके पर सदर एसडीपीओ सुरजीत कुमार, चैनपुर थाना प्रभारी उदय कुमार गुप्ता, रामगढ़ थाना प्रभारी प्रभात रंजन राय, हरिहरगंज थाना प्रभारी सुदामा कुमार दास आदि मौजूद थे।

गिरोह पर 6 मामले दर्ज

एसपी चंदन सिन्हा ने बताया कि गिरोह पर रेहला थाना में एक, नावा बाजार थाना में एक, चैनपुर थाना में चार मामला दर्ज है। इसमें रेहला थाना में नसउवर अंसारी, राजेश दास का अपहरण, चैनपुर थाना में दो मोबाइल की लूट, नेनुआ से बालू ठेकेदार के पुत्र शकील अंसारी का अपहरण, दो व्यक्तियों का अपहरण और बरांव से दिल्ली के एक व्यक्ति का अपहरण का मामला दर्ज है।

खबरें और भी हैं...