पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आरोप:परिजनों ने कहा- टॉर्चर नहीं करने की बात कहने का पुलिस दे रही है दबाव

मेदिनीनगर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पुलिस की पिटाई से जख्मी युवक को देखने अस्पताल पहुंचे भाकपा नेता

पुलिस प्रशासन द्वारा टॉर्चर एवं मारपीट कर घायल किए गए सोनपुरवा गांव निवासी रजनीकांत दुबे को देखने बुधवार को भाकपा के पलामू जिला सचिव रुचिर कुमार तिवारी पलामू मेडिकल कॉलेज पहुंचे। उन्होंने देखा कि रजनीकांत की पीठ व कमर से नीचे का हिस्सा चैनपुर पुलिस की पिटाई से काला पड़ गया है। वह ठीक से लेटकर सो भी नहीं पा रहे हैं। बिजली के करंट सटाने की वजह से मरीज रजनीकांत ठीक से बोल भी नहीं पा रहा है। अस्पताल में मौजूद रजनीकांत दुबे की माता अमरावती कुंवर, उनकी बहन प्रियंका पांडेय, सूरज पांडेय व मिंटू दुबे आदि ने भाकपा नेता रुचिर तिवारी को बताया कि पुलिस पदाधिकारी द्वारा यह लगातार दबाव बनाया जा रहा है कि तुम यह लिखकर दो कि पुलिस लॉकअप में तुम्हारे साथ कोई टॉर्चर नहीं किया गया है।

वहीं, डॉक्टर कुछ बताने के लिए तैयार नहीं हैं, लेकिन पीड़ित के मेडिकल पुर्जा में डॉक्टर ने इलेक्ट्रिक शॉक और मारपीट का जिक्र किया है, जिससे यह साफ पता चलता है कि मारपीट के बाद इलेक्ट्रिक शॉक भी लगाया गया है। जिला प्रशासन ने दोषी पुलिस पदाधिकारी पर अभी तक कोई कार्रवाई न कर पीड़ित के साथ किए गए अमानवीय कृत्य का विरोध करने पर उल्टे सभी ग्रामीणों पर झूठा मुकदमा दर्ज करा दिया है। रुचिर ने कहा है कि पुलिस की यह कार्रवाई निंदनीय है, जिससे जनता में पुलिस के प्रति अविश्वास पैदा हो रहा है। तिवारी ने राज्य सरकार से कुकृत्य करनेवाले पदाधिकारियों पर अविलंब कार्रवाई करने व निर्दोष ग्रामीणों को तत्काल झूठा मुकदमा से मुक्त कराने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...