धर्म समाज:नवरात्रि में 5 रवियोग के साथ सौभाग्य और वैधृति योग

मेदिनीनगर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
श्री सप्तमातर महादेवी की सजावट। - Dainik Bhaskar
श्री सप्तमातर महादेवी की सजावट।

गुरुवार को कलश स्थापन के साथ ही देवी मां के पावन नौ दिन का पर्व शारदीय नवरात्र शुरू हो गया है। भक्तों ने कलश स्थापन के बाद देवी के प्रथम स्वरूप मां शैल पुत्री की पूजा की। आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से देवी की भक्ति का पर्व शारदीय नवरात्र का उत्साह दिखाई देने लगा है। इस बार चतुर्थी तिथि का क्षय हो जाने के कारण नवरात्र आठ दिनों का ही रहेगा।

प्रतिपदा पर घट स्थापना के साथ नवरात्र प्रारंभ हुआ, जो 14 अक्टूबर को नवमी तिथि के हवन और कन्या पूजन के साथ पूर्ण होगा। इन आठ दिनों में अनेक शुभ योग-संयोग बन रहे हैं जो देवी की कृपा पाने के सर्वश्रेष्ठ दिन रहेंगे। इस बार की नवरात्रि खास मानी जा रही है। नवरात्रि में पांच रवियोग के साथ सौभाग्य योग और वैधृति योग बन रहा है। इस नवरात्रि नए कार्यों की शुरुआत शुभ रहेगी। सुबह से ही माहौल भक्तिमय बना हुआ था। मंदिरों में मंत्रोच्चार की ध्वनि सुनाई दे रही थी।

भीड़ भी मंदिर में दखीजा रही है। इसके साथ ही लोगों ने अपने घरों में भी कलश स्थापन कर नवरात्र प्रारंभ किया। शहर के श्री सप्तमातर महादेवी मंदिर, रेड़मा काली मंदिर व छहमुहान काली मंदिर सहित अन्य मंदिरों में घट स्थापना के साथ नवरात्र प्रारंभ हो गया है। नवरात्र को लेकर मंदिरों की विशेष रूप से साज-सज्जा की गई है।

डोली पर सवार होकर मां का आना फलदायक
श्री सप्तमातर महादेवी मंदिर के पुजारी अनिल पंडित ने कहा कि इस बार मां दुर्गा का आगमन डोली में हुआ है। यह शुभ है। नवरात्र की शुरुआत चित्रा नक्षत्र में होने से साधना, साहस और संतोष प्राप्त होगा। नवरात्र व्रत अनंत गुना फलदायी रहेगा। हर दिन मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूप का पूजन करने से विशेष फल की प्राप्ति होगी। वहीं माता रानी का प्रस्थान हाथी पर दशमी तिथि दिन शुक्रवार को होने से यह शुभ फलदायक होगा।

मां की पूजा के लिए नवरात्रि की तिथियां
नवरात्रि की शुरुआत 7 अक्टूबर को मां शैल पुत्री की पूजा से हुई। 8 को दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी,9 को तीसरे दिन मां चंद्रघंटा, 10 को चौथे दिन मां कूष्मांडा व मां स्कंदमाता, 11 को पांचवें दिन मां कात्यायनी की पूजा होगी। 12 अक्टूबर को छठे दिन मां कालरात्रि की पूजा होगी। 13 को सातवें दिन मां महागौरी व 14 को मां सिद्धिदात्री की पूजा होगी। 15 अक्टूबर दिन शुक्रवार को दशमी के दिन नवरात्रि का पारण किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...