बड़ी उपलब्धि:आईटी सचिव बोले-आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में 90 फीसदी मामले लोकल स्तर पर ही निपट सकते हैं

मेदिनीनगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पत्रकारों से बात करते आईटी सचिव कृपानंद झा, साथ में उपायुक्त शशि रंजन। - Dainik Bhaskar
पत्रकारों से बात करते आईटी सचिव कृपानंद झा, साथ में उपायुक्त शशि रंजन।
  • राज्य में 11 लाख आवेदनों में से 8.47 लाख निपटाए गए

आईटी सचिव कृपानंद झा ने कहा है कि आपके अधिकार, आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के तहत 6 दिसंबर तक पूरे राज्य में 11 लाख आवेदन मिला है। इसमें से 77 प्रतिशत आवेदन यानी 8,47,000 आवेदन का निष्पादन हो चुका है। यह आयोजन 15 नवंबर से शुरू हुआ जो 28 दिसंबर तक चलेगा। शेष आवेदन निष्पादन होने की कतार में हैं। वह मंगलवार को समाहरणालय सभागार में पत्रकारों से मुखातिब थे।

उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम के तहत प्राप्त होने वाले कुल आवेदन का 90 प्रतिशत का निष्पादन प्रखंड व जिलास्तर पर संभव है। शेष 10 प्रतिशत का निष्पादन राज्य सरकार के स्तर के होने के कारण प्रखंड व जिलास्तर पर संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम को सफलीभूत बनाने के लिए आईटी विभाग के द्वारा पोर्टल बनाया गया है। इसमें सभी आवेदन को अपलोड किया जाता है। आवेदन के अपलोड होते ही आवेदक के मोबाइल पर मैसेज जाता है।

आवेदन के निष्पादन के लिए सात दिन का समय मुकर्रर किया गया है। इसके निष्पादन की सूचना भी आवेदक के मोबाइल पर दी जाती है। पोर्टल के माध्यम से कार्यक्रम की ऑनलाइन मॉनिटरिंग की जाती है। बताते चले कि आईटी सचिव कृपानंद झा आपके अधिकार, आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के पलामू व गढ़वा के नोडल पदाधिकारी हैं।

प्रमंडलीय कार्यक्रम में भाग लेंगे सीएम, परिसंपत्तियों का होगा वितरण
आईटी सचिव कृपानंद झा ने बताया कि 10 दिसंबर को आपके अधिकार, आपकी सरकार आपके द्वार का प्रमंडल स्तरीय कार्यक्रम मेदिनीनगर में होगा। इसमें मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भाग लेंगे। इस कार्यक्रम में तीनों जिलों के आवेदकों से आवेदन लेने के साथ-साथ लाभुकों के बीच परिसंपत्तियों का वितरण किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि कार्यक्रम के प्रति लोगों में उत्साह को देखते हुए हर छह माह पर आयोजित करने का प्रस्ताव सरकार को दिया जाएगा। मौके पर उपायुक्त शशि रंजन ने कहा कि पलामू जिले में अब तक 164 जगहों पर कैंप हो चुके हैं। इसमें 63 अलग-अलग योजना के करीब 80 हजार आवेदन प्रशासन को प्राप्त हुए हैं। इसमें से 60 प्रतिशत आवेदनों का निष्पादन हो चुका है। उन्होंने बताया कि पोर्टल के माध्यम से लोग अपने आवेदन की स्वयं जांच भी कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...