पलामू में बिजली संकट:80 की जगह मिल रही है सिर्फ 35 मेगावाट

मेदिनीनगर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सुदना सब स्टेशन। - Dainik Bhaskar
सुदना सब स्टेशन।

पलामू जिले को निर्धारित से आधी से भी कम बिजली मिलने के कारण बिजली संकट गहरा गया है। ज़रुरत के अनुरूप बिजली नहीं मिलने के कारण शहर से लेकर गांवों तक लोड शेडिंग कर बिजली आपूर्ति की जा रही है। लोड शेडिंग की वजह से नियमित रूप से घंटा-घंटा भर बिजली गुल रहने लगी है। इससे आम जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है।

बिजली विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार, 05 अक्टूबर की शाम 4.17 बजे से सेंट्रल लो-डिस्पैच (सीएलडी), रांची से सुदना सब ग्रिड को आधी से भी कम बिजली लेने का निर्देश जारी किया गया। नगर निगम अंतर्गत सुदना सब ग्रिड को समान्यत: पीक आवर में 70-80 मेगावाट की ज़रुरत होती है। इसकी तुलना में ग्रिड को 35 मेगावाट बिजली मिल रही है। इस कारण सुदना सब ग्रिड से जुड़े सभी छह सब स्टेशन को ज़रुरत से कही कम बिजली आपूर्ति की जा रही है। यहां ध्यान देने योग्य है कि पीक आवर के समय बिजली की मांग घटती-बढ़ती रहने के कारण एकरूपता नहीं रहती है। इसमें जिले के दो अन्य सब ग्रिड-पचंबा व बी.मोड़ ग्रिड को शामिल नहीं किया गया है।

दो घंटे पर एक घंटे काटी जा रही बिजली
जरुरत से कहीं कम बिजली मिलने पर सब-स्टेशन से लोड शेडिंग कर बिजली की आपूर्ति फीडर वाइज की जा रही है। उदाहरण के तौर पर सुदना सब स्टेशन से तीन 11 केवी फीडर-बाजार, अस्पताल व इंडस्ट्रियल निकला हुआ है। उससे 33 केवी से सेमरा सब स्टेशन जुड़ा हुआ है। कम बिजली मिलने से तीनों 11 केवी व 33 केवी सेमरा को एक साथ विद्युत आपूर्ति संभव नहीं है। ऐसे में दो-दो फीडर में रोटेशन के अनुसार विद्युत आपूर्ति की जाती है। ऐसे में एक फीडर में दो घंटे बिजली देने के बाद एक घंटे बिजली काटी जा रही है।

सेंट्रल कोटा से राज्य को आधी मिल रही

सेंट्रल लो-डिस्पैच (सीएलडी), रांची से प्राप्त जानकारी से सेंट्रल कोटा से राज्य को आधी बिजली मिल रही है। प्रदेश में 800 मेगावाट बिजली की ज़रुरत है। जिसके विरुद्ध 400 मेगावाट बिजली की उपलब्धता है। तेनुघाट से एक यूनिट से ही बिजली उत्पादन हो रहा है। इंलैंड पावर प्लांट, गोला में बिजली उत्पादन ठप है। इस कारण पूरे प्रदेश में बिजली की कटौती की जा रही है। सेंट्रल कोटा से पूरी बिजली मिलने की स्थिति में विद्युत आपूर्ति में सुधार होने की संभावना है।

हुसैनाबाद में 4-5 घंटे मिल रही बिजली, उपभोक्ताओं में आक्रोश

हुसैनाबाद अनुमंडल के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की अनियमित आपूर्ति से उपभोक्ता काफी परेशान है। विगत एक सप्ताह से अनियमित बिजली आपूर्ति से उपभोक्ताओं में आक्रोश हैं। हुसैनाबाद अनुमंडल क्षेत्र में लगभग 4-5 घण्टे भी बिजली नहीं मिल रही है।एक ओर धान फसल के लिए भी पटवन अति जरूरी है।वहीं उमस भरी गर्मी में लोगों को परेशानी हो रही है।

खासकर शारदीय नवरात्र के अवसर पर बिजली का नही रहना पंडाल निर्माण में जुटे पूजा समिति के लोंगो व श्रद्धालुओं को काफी परेशानी हो रही है।जपला पचंबा ग्रिड से मिली जानकारी के अनुसार स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर रांची द्वारा ग्रिड से 10 मेगावाट बिजली सप्लाई देने का निर्देश दिया गया है। जबकि हुसैनाबाद अनुमंडल क्षेत्र में निर्बाध रूप से बिजली आपूर्ति के लिए 30 मेगावाट बिजली की आवश्यकता होती है। बिजली नहीं रहने से पंडाल निर्माण में भी दिक्कत हो रही है।

खबरें और भी हैं...