दोेहरी मार:ट्रेनों के नंबर बदलने की कवायद शुरू, कुछ से स्पेशल टैग भी हटा, लेकिन नहीं मिली छूट

मेदिनीनगर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

रेलवे ने कोविड-19 के दौरान पूरे देश में ट्रेनों का परिचालन रोक दिया था। बाद में धीरे-धीरे ट्रेनों का परिचालन शुरू किया गया, लेकिन इस दौरान सभी ट्रेनों के नंबर बदल दिए गए और उन्हें सामान्य से स्पेशल की कैटेगरी में ला दिया गया।

इस कारण से ट्रेनों के किराए में 20 से 30 प्रतिशत की बढ़ोतरी की गई। ऐसे में अब जब कोरोना की दूसरी लहर भी पूरी तरह से समाप्त हो चुकी है, भारतीय रेलवे ने रेल यात्रियों को राहत देने की दिशा में कार्य शुरु किया। थसके तहत सभी स्पेशल ट्रेनों को पहले की तरह सामान्य श्रेणी में लाने की प्रक्रिया शुरु की गयी। इस कड़ी में ट्रेनों के नंबर बदलने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई। अब तक सैकड़ों ट्रेनों का नंबर पहले की तरह बदल दिया गया है और प्रक्रिया लगातार चल रही है।

पलामू एक्सप्रेस से स्पेशल टैग हटने से घटा किराया

सीआइसी रेलखंड की महत्वपूर्ण ट्रेन पलामू एक्सप्रेस से स्पेशल टैग को हटा दिया गया। जिससे उसमें सफर करने के लिए निर्धारित किराया घट गया। जैसे डालटनगंज से पटना के लिए थर्ड एसी का किराया 1050 से घटकर 560 रुपया, स्लीपर का किराया 385 से घटकर 210 रुपया और टूएस का किराया 145 से घटकर 125 रुपया हो गया।

हालांकि सीआइसी रेलखंड से गुजरने वाली राजधानी एक्सप्रेस, गरीब रथ, रांची-सासाराम इंटरसिटी, रांची-चोपन एक्सप्रेस, हावड़ा-भोपाल एक्सप्रेस, कोलकाता-अहमदाबाद एक्सप्रेस, कोलकाता-मदार एक्सप्रेस से स्पेशल का टैग हटा दिया गया। इन ट्रेनों के एसी, स्लीपर का किराया पूर्ववत रहने के कारण उसमें कमी नहीं हुई। जबकि शक्तिपुंज एक्सप्रेस,संभलपुर वाराणसी एक्सप्रेस से स्पेशल का टैग नहीं हटा है लेकिन इन दोनों ट्रेन में एसी, स्लीपर का किराया पूर्ववत ही है। अभी भी इन ट्रेनों में जेनरल में यात्रा करने के लिए टिकट आरक्षित कराना पड़ता है।

खबरें और भी हैं...