दर्ज होगी प्राथमिकी:गलत तरीके से दूसरे को पीएम आवास का लाभ दिलाने वाले स्वयंसेवक को किया कार्यमुक्त

मेदिनीनगर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • फर्जी लाभुक को भी 15 दिनों में राशि रिकवरी का नोटिस, 27 दिसंबर को दैनिक भास्कर ने उठाया था मुद्दा

गलत तरीके से दूसरे व्यक्ति को पीएम आवास का लाभ दिलाने के आरोप में पांकी प्रखंड के नुरु पंचायत के स्वयंसेवक कमलेश कुमार को कार्यमुक्त कर दिया गया है। इसी मामले में आवास बनाने वाले लाभुक सुरेंद्र सिंह को पैसा रिकवरी करने का नोटिस दिया गया है। ससमय पैसा रिकवरी नहीं करने पर सुरेंद्र सिंह पिता रामेश्वर सिंह के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जाएगी।

भुइयांकुरहा (कहुईयाखाड़) निवासी सुरेंद्र सिंह पिता स्वर्गीय सरबी सिंह ने पंचायत के स्वयंसेवक कमलेश कुमार पर गंभीर आरोप लगाया था। कहा था कि उन्हें पीएम आवास आया था। लेकिन स्वयंसेवक कमलेश कुमार उनसे आवास दिलाने के नाम पर 20 हजार रुपए रिश्वत की मांग की थी। घूस नहीं देने पर स्वयंसेवक कमलेश कुमार ने गांव के ही दूसरे सुरेंद्र सिंह को गलत तरीके से आवास का लाभ दिलाया।

स्वयंसेवक कमलेश कुमार , पंचायत सचिव बलराम महतो एवं प्रखंड कोऑर्डिनेटर बिमलेश कुमार आवास का फर्जी तरीके से राशि का भुगतान भी कर दिया। जब मामले की सूचना उन्हें हुई तो वे आवास के लिए स्वयंसेवक से कई बार गुहार लगाई , लेकिन स्वयंसेवक उल्टे लाभुक सुरेंद्र सिंह को ही डराने धमकाने लगे। तब मामले की लिखित शिकायत पलामू उपायुक्त शशि रंजन से की। शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहीं होने के बाद लाभुक सुरेंद्र सिंह मीडिया का सहारा लिया।

27 दिसंबर 2021 को दैनिक भास्कर ने खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया। खबर छपने के बाद पलामू उपायुक्त शशि रंजन ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच कर दोषी लोगों पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया। इसके बाद प्रखंड विकास पदाधिकारी ने मामले को गंभीरता से जांच की। जहां जांच में स्वयंसेवक कमलेश कुमार , पंचायत के सेवानिवृत्त पंचायत सचिव बलराम महतो व तत्कालीन ब्लॉक कोऑर्डिनेटर विमलेश कुमार फर्जी लाभुक को पीएम आवास का लाभ देने और राशि का भुगतान करने की पुष्टि हुई। पीएम आवास के प्रखंड कोऑर्डिनेटर विमलेश कुमार का भी संलिप्तता सामने आया है।

बीडीओ निर्भय कुमार ने बताया कि पंचायत सचिव बलराम महतो (सेवानिवृत्त) तत्कालीन प्रखंड समन्वयक विमलेश कुमार मेहता एवं स्वयंसेवक कमलेश कुमार द्वारा गलत तरीके से फर्जी व्यक्ति को आवास का लाभ दिया गया है। स्वयंसेवक कमलेश कुमार को तत्काल प्रभाव से कार्यमुक्त कर दिया गया है। जबकि फर्जी तरीके से आवास का लाभ लेने वाले लाभुक सुरेंद्र सिंह को 15 दिनों के अंदर पैसा रिकवरी करने का नोटिस दिया गया है। यदि 15 दिनों के अंदर राशि कार्य का भी नहीं होता तो स्थानीय थाने में प्राथमिकी दर्ज की जाएगी।

खबरें और भी हैं...