खुश खबर:आपके आधिकार, आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में पलामू में पेंशन की तीन योजनाओं में मिले 41,074 आवेदनों में 23,698 स्वीकृत

मेदिनीनगर8 दिन पहलेलेखक: सच्चिदानंद
  • कॉपी लिंक
  • पलामू जिले के 5 हजार जरूरतमंदों को इसी माह से मिलेगी एक हजार रुपए पेंशन

हेमंत सरकार की ओर से नए साल के पहले माह जनवरी में पलामू जिले के 5,052 जरूरतमंदों को एक-एक हजार रुपए पेंशन का तोहफा मिलेगा। इसमें मुख्यमंत्री राज्य वृद्धावस्था पेंशन योजना के तहत 4,176, स्वामी विवेकानंद नि:शक्त स्वावलंबन योजना के तहत 335 और मुख्यमंत्री राज्य निराश्रित महिला सम्मान पेंशन योजना के तहत 541 लाभुक शामिल हैं।

सामाजिक सुरक्षा के सहायक निदेशक पियूष बताते है कि 16 नवंबर से 28 दिसंबर तक आपके आधिकार, आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम आयोजित किए गए थे। इसमें पलामू जिले में पेंशन की तीनों योजना के तहत 41,074 आवेदन प्राप्त हुए थे। जिसमें से 23,698 आवेदन को स्वीकृत और 825 आवेदन को विभिन्न कारणों से अस्वीकृत कर दिया गया था। उसमें से 9 जनवरी तक 5,052 आवेदन को पोर्टल पर अपलोड कर दिया गया है, जिनको जनवरी माह में पेंशन मिलेगी। शेष स्वीकृत 18,646 आवेदन को आने वाले दिनों में पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा।

मुख्यमंत्री राज्य वृद्धावस्था पेंशन योजना में 19,913 आवेदन किए गए स्वीकृत
आपके आधिकार, आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में पलामू जिले में सर्वाधिक 34,194 आवेदन मुख्यमंत्री राज्य वृद्धावस्था पेंशन योजना में मिले। जिसमें से 19,913 आवेदन को स्वीकृत और 740 आवेदन को अस्वीकृत किया गया। शेष 13, 451 आवेदन लंबित है। स्वीकृत आवेदन में से 4,176 आवेदन को पोर्टल पर अपलोड कर दिया गया।

शेष 15,737 आवेदन को पोर्टल पर अपलोड किया जाना है। स्वामी विवेकानंद नि:शक्त स्वावलंबन योजना के तहत पलामू जिले में 2,465 आवेदन मिले। इसमें से 1,443 आवेदन को स्वीकृत और 31 आवेदन को अस्वीकृत किया गया। शेष 991 आवेदन लंबित है। स्वीकृत आवेदन में से 335 आवेदन को पोर्टल पर अपलोड किया गया। शेष 1,108 आवेदन को पोर्टल पर अपलोड किया जाना है। मुख्यमंत्री राज्य निराश्रित महिला सम्मान पेंशन योजना के तहत पलामू जिले में 4,415 आवेदन मिले। जिसमें से 2,612 आवेदन को स्वीकृत और 31 आवेदन को अस्वीकृत किया गया। शेष 1,834 आवेदन लंबित है। स्वीकृत आवेदन में से 335 आवेदन को पोर्टल पर अपलोड किया गया। शेष 2,237 आवेदन को पोर्टल पर अपलोड किया जाना है।

मुख्यमंत्री सर्वजन पेंशन योजना में लक्ष्य की बाध्यता समाप्त कर आवेदन लिए गए
सामाजिक सुरक्षा के सहायक निदेशक पियूष बताते है कि मुख्यमंत्री राज्य वृद्धावस्था पेंशन योजना, स्वामी विवेकानंद नि:शक्त स्वावलंबन योजना और मुख्यमंत्री राज्य निराश्रित महिला सम्मान पेंशन योजना में लक्ष्य पूरा होने के कारण नए लाभुकों को आच्छादित नहीं किया जा रहा था लेकिन मुख्यमंत्री सर्वजन पेंशन योजना में लक्ष्य की बाध्यता को समाप्त कर दिया।

इस कारण उपरोक्त तीनों योजना में आपके आधिकार, आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में आवेदन लिए गए। उन्होंने कहा कि वैसे लोग जो उपरोक्त तीनों योजना में आवेदन जमा नहीं कर सके हैं, वह भी संबंधित प्रखंड/अंचल में आवेदन देकर पेंशन योजना का लाभ उठा सकते है।

मुख्यमंत्री सर्वजन पेंशन योजना की 14 शर्तें भी हटा दी गईं, बुजुर्गों को लाभ
राज्य सरकार के द्वारा मुख्यमंत्री सर्वजन पेंशन योजना लागू की गई है। सरकारी सेवा में स्थाई रूप से नियोजित और आयकर अदा करने वाले परिवार के सदस्य को छोड़ कर अब 60 वर्ष से अधिक आयु के सभी वृद्धजनों को पेंशन योजना का लाभ प्राप्त होगा। सरकार ने पेंशन के लिए आवेदन को डिबार करने वाली 14 शर्तें भी हटा दी है। एपीएल और बीपीएल कार्ड की बाध्यता समाप्त कर दी गई है। गरीब, नि:शक्त और निराश्रित, जिनमें विधवा, एकल, परित्यक्त महिलाएं भी योजना से आच्छादित होंगी।

पेंशन देने के लिये लाभुकों के चयन की संख्या तय करने की बाध्यता समाप्त कर दी गई है। पूर्व में टारगेट निर्धारित होने के कारण आवेदन लंबित रह जाते थे। अब राज्य सरकार हर जरूरतमंद को विभिन्न पेंशन योजनाओं का लाभ देगी, जो इसके दायरे में आते हैं। योजना में सरकार ने 100 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है, जिससे केंद्र सरकार का योगदान प्राप्त होने में देरी होने पर भी पेंशन का भुगतान होता रहे।

खबरें और भी हैं...