• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • Meral
  • The Fair Was Organized Near Banka Mountain Of Meral And Sarvdaha Uriya River Culvert Of Bana And Ramna Police Station Areas Of The District.

रहें सतर्क:जिले के मेराल के बंका पहाड़ और बाना व रमना थाना क्षेत्र के सर्वदाहा उरिया नदी पुलिया के पास मेले का किया गया आयोजन

मेराल3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मेराल के बाना सर्वदाहा उरिया नदी किनारे लगे मेले में उमड़ी भीड़। - Dainik Bhaskar
मेराल के बाना सर्वदाहा उरिया नदी किनारे लगे मेले में उमड़ी भीड़।
  • आस्था भारी, कोरोना को भूलकर मेले में उमड़े लोग, गाइडलाइन का नहीं हुआ पालन

मेराल प्रखंड में मकर संक्रांति को मानकर कई स्थानों पर बड़ी संख्या में लोगों ने मकर संक्रांति के मेले का आयोजन शुक्रवार को ही किया, जबकि मकर संक्रांति का त्योहार शास्त्र के अनुसार को शनिवार को मनाया जाना है। हालांकि लोगों द्वारा पूर्व की भांति 14 जनवरी को ही स्नान ध्यान पूजा पाठ के साथ मेले का आयोजन भी स्थानीय स्तर पर संपन्न हो गया। वहीं आम लोगों ने प्रशासन को धत्ता बताते हुए मेले में जमकर लुत्फ उठाया।

बढ़ते कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सरकार द्वारा गाइडलाइन जारी किया गया था कि कहीं भी भीड़ भाड़ के साथ मेले का आयोजन नहीं किया जाएगा। लेकिन आम लोगों ने कोरोना जैसे संक्रमण को भूल कर मेराल थाना क्षेत्र के बंका पहाड़ के पास तथा बाना एवं रमुना थाना क्षेत्र के सर्वदाहा उरिया नदी पुलिया के पास हजारों की संख्या में जमा होकर लोगों ने लगाये गये सैकड़ों दुकान में जमकर खरीद बिक्री की।

मेले में काफी संख्या में स्थानीय लोगों ने की पूजा-अर्चना
इस मेले में शिक्षित और अशिक्षित वर्ग के महिला और पुरुषों ने बड़ी संख्या में भाग लिया। भीड़ के कारण जहां बंका पहाड़ पर चढ़ने उतरने वाले लोगों की लंबी कतारें लगी रही। वहीं बाना मेले में भीड़ के कारण धूल उड़ता नजर आ रहा था। लोगों द्वारा नदी से जल लेकर शिव स्थान पर नारियल और प्रसाद के साथ चढ़ाया जा रहा था। दोनों जगहों पर भीड़ इतनी थी कि लोग कोरोना जैसे बीमारी को ही भूल गए थे। मेला दोपहर 12 बजे से लेकर देर शाम 7 बजे तक भीड़भाड़ के साथ चला। भक्ति के आगे फीकी पड़ी सतर्कता।

मकर संक्रांति पर लोगों ने की मंदिर में पूजा

सर्दी की मौसम के समाप्त होने का परिचायक बने मकर संक्रांति का पर्व शुक्रवार को लोगों ने मंदिर में पूजा अर्चना कर व स्नान-दान के साथ पूरे हर्षोंल्लास के साथ मनाया। मकर संक्रांति को लेकर शुक्रवार को अहले सुबह से ही शहर के मंदिरों में लोग जुटने लगे थे। गढ़वा में भी मकर संक्रांति पर शुक्रवार को जिला सहित पंचायत के अन्य समुदाय के लोगों ने नदी में स्नान कर जिला मुख्यालय स्थित जुड़वानीय शिवमंदिर तथा गढ़ देवी मंदिर में पूजा-अर्चना की। खासकर आदिदेव भगवान भोलेनाथ के मंदिरों में शुक्रवार को काफी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे थे। लोग अहले सुबह स्नान आदि से निवृत होकर जल-फूल के साथ तिल-गुड़ लेकर भगवान को अर्पित कर अपने अभीष्ट की सिद्धि के लिए मंदिर पहुंचे थे। वहीं कई लोग अपने घरों में ही स्नान आदि के बाद पूजा अर्चना कर अनाज का दान कर मकर संक्रांति का पर्व मनाया।

खबरें और भी हैं...