व्यवस्था सुधारने की कवायद:सदर अस्पताल में कोरोना मरीजों के इलाज में कर्मियों की मदद करेंगे, होमगार्ड के 120 जवान

रांची6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • डीसी ने ऑक्सीजन सिलेंडरों की सुरक्षा के लिए विभाग को लिखा था पत्र

सदर अस्पताल को लेकर लगातार हो रही फजीहत के बाद प्रशासन की नींद खुली है। पिछले दो दिनों से अधिकारियों की सक्रियता को देखकर ऐसा लगता है कि अस्पताल में अभी जो अव्यवस्था का आलम है, वह जल्द दूर हो जाएगा। इसी सिलसिले में बुधवार को गृह विभाग ने होमगार्ड के 120 जवानों को सदर अस्पताल में प्रतिनियुक्त करने का आदेश जारी किया। ये जवान कोविड मरीजों के इलाज में स्वास्थ्यकर्मियों की मदद करेंगे। इन जवानों की प्रतिनियुक्ति 19 दिनों यानी 15 मई तक के लिए की गई है।

ये सदर अस्पताल में ऑक्सीजन सिलेंडर की सुरक्षा के साथ-साथ मरीजों को ऑक्सीजन सुनिश्चित कराने तक का काम करेंगे। डीसी छवि रंजन ने सरकार से पत्राचार कर अनुरोध किया था और बताया था कि सदर अस्पताल को डेडिकेटेड कोविड अस्पताल घोषित किया गया है। उन्होंने सरकार से 120 गृह रक्षकों की मांग की थी, ताकि ऑक्सीजन सिलेंडर की सुरक्षा के साथ-साथ सभी जरूरत मरीजों को ऑक्सीजन मिल सके। सरकार की स्वीकृति के बाद गृह रक्षकों को योगदान के लिए गृह विभाग ने आदेश जारी कर दिया है।

डीडीसी ने ऑक्सीजन पहुंचाने में देर न करने का दिया निर्देश

सदर अस्पताल डिस्ट्रिक्ट कोविड हेल्थ सेंटर में नई अधिष्ठापित की गई मेनिफोल्ड सिस्टम का निरीक्षण बुधवार को डीडीसी विशाल सागर ने किया। तीसरे, चौथे एवं पांचवे तल्ले पर इस सिस्टम के आउटलेट का निरीक्षण कर मैनफोल्ड सिस्टम के कार्यविधि की जानकारी ली। उन्होंने इस सिस्टम के कार्यकारी एजेंसी को लगातार मॉनिटरिंग करने कहा। मालूम हो कि सदर अस्पताल में कुल तीन मेनिफोल्ड सिस्टम संचालित किए जा रहे हैं। इस मैनफोल्ड सिस्टम के माध्यम से अब जंबो सिलिंडर कार्यरत रहेंगे और हाई फ्लो ऑक्सीजन के प्रवाह को मेंटेन किया जा सकेगा। जिससे ऑक्सीजन की कमी बिल्कुल भी नहीं होगी और लगातार आवश्यकता के अनुसार हाई फ्लो ऑक्सीजन कोविड मरीजों को मिलता रहेगा। वहीं, सदर अस्पताल के तीनों फ्लोर में जाकर साफ-सफाई का निरीक्षण किया। बायो मेडिकल वेस्ट यथा पीपीई किट, ग्लव्स इत्यादि के निस्तारण को लेकर दिशा निर्देश भी दिया।

खबरें और भी हैं...