एनसीआरबी रिपोर्ट:राज्य में एक साल में दुष्कर्म के 1425 मामले, इनमें 210 में दोस्त ही आरोपी, 55 केस में परिवार के सदस्य शामिल

रांची3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एनसीआरबी रिपोर्ट - 2020 में महिला हिंसा के 7630 मामले थे, 2021 में 8110 हुए । - Dainik Bhaskar
एनसीआरबी रिपोर्ट - 2020 में महिला हिंसा के 7630 मामले थे, 2021 में 8110 हुए ।

झारखंड में महिला हिंसा बढ़ गई है। 2021 में 22 महिलाओं की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई, वहीं 281 महिलाएं दहेज की बलि चढ़ी दी गईं। ये आंकड़े राष्ट्रीय अपराध रिकाॅर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के हैं। झारखंड में 2021 में महिला हिंसा के 8110 मामले हुए थे, जबकि 2020 में 7630 मामले ही दर्ज हुए थे। 2020 की तुलना में 2021 में 480 अधिक मामले दर्ज हुए।

इधर, आंकड़े यह भी बताते हैं कि महिलाओं के साथ 2021 में दुष्कर्म के जो 1425 मामले सामने आए, उनमें 210 मामले ऐसे थे, जिनमें दोस्त ही आरोपी निकले। वहीं 55 मामले ऐसे थे, जिसमें आरोपी परिवार के ही सदस्य थे। 280 मामलों में आरोपी पड़ोसी या जानने वाले थे। दुष्कर्म के मामलों में मात्र 10 मामले ही ऐसे थे, जिसमें अज्ञात लोगों ने दुष्कर्म किए।

1425 से दुष्कर्म, इनमें 295 की उम्र 18 साल से कम

2021 में 1425 महिलाओं से दुष्कर्म की घटना हुई। इनमें 1130 महिलाओं की उम्र 18 से उपर थी। वहीं 295 नाबालिग बच्चियों के साथ भी दुष्कर्म की घटनाएं झारखंड में हुई। 62 बच्चियों की उम्र 12 साल से कम थी, जिनके साथ दुष्कर्म की घटनाएं हुई। पिछले साल 164 महिलाओं के साथ दुष्कर्म के प्रयास की भी घटनाएं झारखंड में सामने आई। महिलाओं के साथ 1339 छेड़खानी की भी घटनाएं हुई। इसमें 1289 महिलाएं 18 साल से ऊपर और 46 नाबालिग थीं।

एक साल में 1161 महिलाओं का अपहरण, इनमें 658 जबरन शादी की नीयत से किए

2021 में 1161 महिलाओं को अपहरण हुआ। इनमें पांच मामले ही फिरौती के हैं। अपहरण के 658 मामले ऐसे थे, जिसमें शादी की नीयत से महिलाओं को अगवा किया गया। पीड़िताओं में 860 की उम्र 18 साल से अधिक थी। 147 लड़कियां ऐसी थीं, जिनकी उम्र 18 वर्ष से कम थी और उन्हें शादी की नीयत से अगवा किया गया।

पिछले साल पुलिस कस्टडी से भागे 12 आरोपी
2021 में पुलिस कस्टडी से 12 आरोपी भाग निकले। इसमें 5 आरोपी पुलिस लॉकअप से और पांच आरोपी ऐसे थे, जो भाग निकले। हालांकि भागने वाले 12 आरोपियों में से 10 को पुलिस ने दोबारा गिरफ्तार कर लिया।

खबरें और भी हैं...