पूरा भुगतान होने तक हड़ताल तोड़ने को तैयार नहीं:एचईसी श्रमिकों को 15 दिन का वेतन, निदेशक काे बंधक बनाया, हड़ताल तोड़ने के लिए समझाने गए थे निदेशक

रांचीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
निदेशक राणा एस चक्रवर्ती को इसी तरह दो घंटे तक घेरे रहे कामगार। - Dainik Bhaskar
निदेशक राणा एस चक्रवर्ती को इसी तरह दो घंटे तक घेरे रहे कामगार।

सात महीने के बकाया वेतन के भुगतान की मांग हड़ताल पर गए एचईसी के कामगाराें काे साेमवार काे 15 दिन का वेतन दिया गया। लेकिन इससे कामगार असंतुष्ट हैं और आंदाेलन जारी रखने की रणनीति बना रहे हैं। वहीं एचईसी प्रबंधन लगातार श्रमिकाें और यूनियन नेताओं से बात कर उनकी हड़ताल खत्म कराने की काेशिश में जुटे हैं, पर कामगार मान नहीं रहे।

उधर, डायरेक्टर मार्केटिंग एंड प्राेडक्शन राणा एस चक्रवर्ती तीन दिन से भी प्लांट में जाकर कामगाराें से हड़ताल खत्म कर काम पर लाैटने की गुहार लगा रहे हैं। साेमवार सुबह वे एचएमटीपी में पहुंचे ताे कामगाराें ने उन्हें करीब दाे घंटे तक बंधक बना लिया। डायरेक्टर समझाते रहे कि रुके हुए प्राेजेक्ट काे जल्दी पूरा करना जरूरी है। तभी कंपनी के पास पैसे आएंगे। इससे एचईसी भी आगे बढ़ेगा और उनका वेतन भी दिया जाएगा। लेकिन कामगाराें ने साफ कह दिया कि जब तक पूरे बकाया वेतन का भुगतान नहीं हाे जाता, वे काम पर नहीं लाैटेंगे। 15 दिन के वेतन से कुछ नहीं हाेगा। प्रबंधन के पास पैसे हैं, लेकिन वह कामगारों को देना ही नहीं चाहता।

हर माह 15-15 दिन का वेतन देने का आश्वासन

प्रबंधन कामगाराें से कह रहा है कि अभी जून का आधा वेतन दिया गया है। इसी माह शेष 15 दिन का वेतन भी दे दिया जाएगा। इसी तरह जनवरी-फरवरी और मार्च में 15-15 दिन का वेतन दिया जाएगा। इसके बाद ऐसी रणनीति बनाई जाएगी कि उन्हें सुचारू रूप से वेतन मिले। उधर, प्रबंधन ने श्रमायुक्त को बता दिया है कि 15 दिन का वेतन दे दिया गया है।

हड़ताल खत्म कराने को प्रबंधन ने कमर कसी

कामगारों की हड़ताल के कारण एचईसी में उत्पादन पूरी तरह से ठप है। इसे देखते हुए प्रबंधन ने हड़ताल खत्म कराने के लिए कमर कस ली है। कंपनी के अधिकारी उन्हें समझाने में जुटे हैं। उनका कहना है कि कामगार काम पर लौट आएं। क्योंकि उत्पादन शुरू होने के बाद ही कंपनी के पास पैसे आएंगे। इसके बाद ही उन्हें सुचारू रूप से वेतन मिल सकेगा।

खबरें और भी हैं...