• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi
  • 2 To 4 Thousand Of Heavy Vehicles Caught By Speed Violation Detector Camera And 1 To 2000 Rupees For Small Vehicles Will Be Deducted.

ओवर स्पीड से रहें सावधान:स्पीड वायलेशन डिटेक्टर कैमरे की पकड़ में आए भारी वाहनों का 2 से 4 हजार और छोटी गाड़ियों का एक से 2000 रुपए तक कटेगा चालान

रांची3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इंटरसेप्टर में लगा स्पीड वायलेशन डिटेक्टर कैमरा खराब है। - Dainik Bhaskar
इंटरसेप्टर में लगा स्पीड वायलेशन डिटेक्टर कैमरा खराब है।
  • कैमरा चालू होने के बाद कंट्रोल रूम में तीन शिफ्ट में काम करेगी पुलिस टीम

राेड सेफ्टी डिपार्टमेंट और ट्रैफिक पुलिस राजधानी में 10 जगहों पर लगे स्पीड वायलेशन डिटेक्टर कैमरे को चालू करने के लिए लगातार काम कर रहे हैं। इसके लिए मोरहाबादी समेत अन्य कई जगहों पर शाइनेज का काम पूरा कर लिया गया है। अन्य जगहों पर शाइनेज के बचे हुए काम पूरे होते ही स्पीड वायलेशन डिटेक्टर कैमरों को चालू कर दिया जाएगा।

ट्रैफिक डीएसपी जीतवाहन उरांव ने बताया कि स्पीड वायलेशन डिटेक्टर कैमरा चालू हाेने के बाद संबंधित मार्ग पर यदि कोई वाहन चालक तय स्पीड से ज्यादा रफ्तार में गाड़ी चलाता है, तो रजिस्टर्ड वाहन नंबर के पते पर चालान भेजा जाएगा। ट्रैफिक डीएसपी ने यह भी बताया कि मोटर वाहन अधिनियम के तहत भारी वाहनों का 2000-4000 और छोटे वाहनों से 1000-2000 रुपए तक का चालान कटेगा। राजधानी में अनियंत्रित वाहनों पर नियंत्रण के लिए ट्रैफिक पुलिस लगातार अपने स्तर से प्रयास कर रही है।

कैमरा चालू हाेने के बाद 24 घंटे ट्रैफिक नियम का पालन करना होगा
स्पीड वायलेशन डिटेक्टर कैमरा चालू होने के बाद संबंधित मार्ग से गुजरने वाले वाहन चालकों को 24 घंटे ट्रैफिक नियमों का पालन करना हाेगा। देर रात में भी तेज रफ्तार से चलने पर चालान कटेगा। ट्रैफिक डीएसपी ने बताया कि पुलिस की टीम तीन शिफ्ट में बटकर 24 घंटे कंट्रोल रूम में तैनात रहेगी। कमांड कंट्रोल रूम में तैनात टीम 24 घंटे अनियंत्रित वाहनों पर नजर रखेगीे।
इंटरसेप्टर का कैमरा खराब, दिखावे के लिए खड़ी रहती है गाड़ी

हाई स्पीड वाहनों पर नियंत्रण रखने के लिए तैनात किए गए दो इंटरसेप्टर वाहनों में लगे स्पीड वायलेशन डिटेक्टर कैमरा पिछले कई माह से खराब पड़ा हुआ है। कैमरा को ठीक कराने वाला कोई नहीं है। स्पीड वायलेशन डिटेक्टर कैमरा खराब रहने के बाद भी सिर्फ दिखावे के लिए इंटरसेप्टर गाड़ी सड़क पर खड़ी रहती है। उसमें पुलिस पदाधिकारी और जवान भी तैनात रहते हैं। हालांकि, इंटरसेप्टर में तैनात पुलिस पदाधिकारी और जवान दिनभर गाड़ी में ही आराम फरमाते हैं। मंगलवार को दैनिक भास्कर ने जब इंटरसेप्टर वाहन का पड़ताल किया तो एक वाहन दिनभर मोरहाबादी में एक ही स्थान पर खड़ा रहा। उसमें तैनात जवान और पदाधिकारी आराम फरमाते रहे। कभी अपने मोबाइल में वीडियो गेम खेलते दिखे तो कभी अपने परिचितों से मोबाइल पर बात करने में व्यस्त रहे।

खबरें और भी हैं...