कोरोना से जंग / झारखंड में 22 नए मरीज, लेकिन अब कोई भी जिला रेड जोन में नहीं

कोरोना से ठीक होने वाले लोगों को मेडिकल टीम ने फलों की टोकरी, सैनिटाइजर और मास्क दिया। कोरोना से ठीक होने वाले लोगों को मेडिकल टीम ने फलों की टोकरी, सैनिटाइजर और मास्क दिया।
X
कोरोना से ठीक होने वाले लोगों को मेडिकल टीम ने फलों की टोकरी, सैनिटाइजर और मास्क दिया।कोरोना से ठीक होने वाले लोगों को मेडिकल टीम ने फलों की टोकरी, सैनिटाइजर और मास्क दिया।

  • केंद्र की गाइडलाइन के मुताबिक 21ऑरेंज ताे 3 जिले ग्रीन जाेन में
  • मुंबई से आए प्रवासी मजदूर सबसे ज्यादा पाॅजिटिव

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 10:25 AM IST

रांची. स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव डाॅ. नितिन कुलकर्णी ने कहा कि केंद्र सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक झारखंड का काेई जिला रेड जाेन में नहीं है। केस पाॅजिटिविटी, एक्टिव केस आदि काे लेकर केंद्र ने जाे कैटेगरी निर्धारित की है, उसके अनुसार तीन जिले ग्रीन जाेन में हैं, जहां काेई केस नहीं मिला है। वहीं राज्य के 21 जिले ऑरेंज जाेन में हैं। 

इसी बीच शुक्रवार काे राज्य में काेराेना के 22 और नए मामले सामने आए। इनमें आठ हजारीबाग, सात गुमला, तीन रामगढ़, तीन चाईबासा और एक जमशेदपुर का है। हजारीबाग का एक मरीज 18 मई काे छत्तीसगढ़ से आया था। तबीयत बिगड़ने पर वह गुरुवार काे रिम्स पहुंचा। यहां आइसाेलेशन वार्ड में रखकर उसका सैंपल लिया गया, जाे पाॅजिटिव आया। इसके साथ ही झारखंड में अब 324 संक्रमित हो गए हैं। 

स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि झारखंड में प्रवासियाें के कारण पाॅजिटिव मरीज बढ़ रहे हैं। अब तक 19,686 प्रवासियाें की जांच हुई है। इनमें सबसे ज्यादा मुंबई से लाैटे 9178 लाेग हैं। मुंबई से आने वाले सबसे ज्यादा पाॅजिटिव मिल रहे हैं। इनका रेट एक फीसदी यानी 100 सैंपल की जांच में एक मरीज पाॅजिटिव मिल रहा है। इसी तरह सूरत से आए करीब तीन हजार लाेगाें के टेस्ट हुए। यहां का पाॅजिटिविटी रेट 0.86%, छत्तीसगढ़ से आए प्रवासियाें का 0.1% है। इसी तरह काेलकाता, चेन्नई और हैदराबाद से आए प्रवासियाें का संक्रमण रेट 1.3% व दिल्ली से लाैटे प्रवासियाें में पाॅजिटिव रेट 0.56%है। 

पलामू में सभी सात मरीज ठीक हुए, अब कोई एक्टिव केस नहीं

इधर, पलामू मेडिकल काॅलेज अस्पताल के काेविड केयर सेंटर में भर्ती सभी सात मरीज काेराेना काे मात देकर घर लाैटे। शुक्रवार काे इन्हें अस्पताल से छुट्टी दी गई। इस माैके पर अस्पताल के डाॅक्टर, स्वास्थ्यकर्मियाें और दूसरे मरीजाें ने तालियां बजाकर इन्हें विदाई दी। सात मरीजाें में से दाे पाटन, दाे मनातू, एक छतरपुर और दाे नाैडीहा बाजार के हैं। यहां 15 मरीज थे, जिनमें आठ पहले ही ठीक हो चुके हैं।

स्वास्थ्य सचिव का आदेशनाइट कर्फ्यू का सख्ती से पालन कराएं, उल्लंघन पर सख्त कार्रवाई करें

वहीं,  झारखंड में लाॅकडाउन-4 की पाबंदियाें का कड़ाई से पालन नहीं हाे रहा है। शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक नाइट कर्फ्यू के दाैरान भी गैरजरूरी गतिविधियां संचालित हो रही है। बाजाराें में भीड़ है। केंद्रीय गृह सचिव से लाॅकडाउन उल्लंघन संबंधी पत्र मिलने के बाद स्वास्थ्य सचिव डाॅ. नितिन मदन कुलकर्णी ने सभी डीसी काे नाइट कर्फ्यू का पालन कड़ाई से कराने काे कहा है। पत्र में कहा है कि मास्क लगाना, कार्यस्थल, परिवहन और सार्वजनिक स्थानाें पर एक-दूसरे से दूरी बनाए रखना और स्वच्छता अहम है। इन दिशा-निर्देशाें काे लागू कराना प्रशासन का दायित्व है। उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई करें।

इधर, सीएम ने वीडियाे काॅन्फ्रेंसिंग में साेनिया गांधी काे बताया, झारखंड में रिकवरी रेट 90% से ऊपर

मुख्यमंत्री हेमंत साेरेन ने कहा कि झारखंड सरकार ने सामाजिक सुरक्षा और बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं पर काम किया। इसका नतीजा है कि राज्य में संक्रमिताें का रिकवरी दर 90 फीसदी से ऊपर है और मृत्यु दर भी काफी कम है। सरकार काे गर्व है कि आज सभी चीजें सरकारी व्यवस्था पर टिकी हुई हैं। हेमंत साेरेन शुक्रवार काे यूपीए शासित राज्याें के मुख्यमंत्रियाें के साथ साेनिया गांधी की अध्यक्षता में आयाेजित वीडियाे काॅन्फ्रेंसिंग में बाेल रहे थे। उन्हाेंने कहा कि झारखंड जीएसटी की मार झेल रहा है। समय पर उसका हिस्सा नहीं मिल पाता। आज सभी राज्यों के सामने आर्थिक संकट है। इसलिए राज्यों काेे भी धन संग्रह का अधिकार मिलना चाहिए। केंद्र द्वारा घोषित आर्थिक पैकेज में गरीबाें-बेराेजगाराें को क्या मिलेगा, यह सर्वविदित है। इसलिए मजदूराें, किसानों और बेरोजगारों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। हमने प्रधानमंत्री को झारखंड की स्थिति से अवगत कराया है। झारखंड मनरेगा में योजना चयन  और मजदूरी दर तय करने का अधिकार  देने का आग्रह करेगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना