भास्कर ब्रेकिग:एक दिन में रिकाॅर्ड 281 कराेड़ की 29 सड़कें मंजूर, कटहल मोड़-अरगोड़ा सड़क भी बनेगी

रांचीएक महीने पहलेलेखक: पंकज त्रिपाठी
  • कॉपी लिंक
  • तीन माह में करीब 1500 कराेड़ की सड़क याेजनाएं स्वीकृत

काेराेना के बाद पथ निर्माण विभाग फास्टट्रैक माेड में आ गया है। विभाग ने 18 अक्टूबर काे एक ही दिन में 281 कराेड़ की 29 सड़क याेजनाओं की स्वीकृति दी। इन पर काम शुरू करने की प्रक्रिया भी शुरू हाे गई है। इनमें से ज्यादातर सड़कें एक साल के भीतर पूरी करने का लक्ष्य है। इन सड़काें काे नेशनल हाइवे की तरह बनाया जाएगा। इन सड़कों में कटहल मोड़-अरगोड़ा सड़क भी है। इससे पहले कैबिनेट के स्तर पर एक दिन में 700 कराेड़ की याेजनाएं स्वीकृत की गई थी।

यही नहीं, पिछले तीन महीने में करीब 1500 कराेड़ की 65 याेजनाएं स्वीकृत की गई हैं, जबकि एक हजार कराेड़ रुपए की याेजनाएं पाइपलाइन में हैं। यानी करीब 2700 कराेड़ सड़काें पर खर्च हाेंगे। गाैरतलब है कि काेराेना काल में सड़काें के निर्माण और मरम्मत पर पूरी तरह से बंद हाे गई थी। काॅन्ट्रैक्टर पुरानी दराें काे संशाेधित करने की मांग कर रहे थे। शिड्यूल ऑफ रेट रिवाइज न हाेने के कारण करीब डेढ़ साल तक काम ठप रहा। जुलाई के बाद मुख्यमंत्री सह पथ निर्माण मंत्री हेमंत साेरेन सक्रिय हुए और युद्ध स्तर पर सड़काें का काम शुरू हाे गया।

कटहल माेड़-अरगाेड़ा सड़क बारिश में पानी में डूबने से हो गई थी खराब
रांची में कटहल माेड़ और अरगाेड़ा के बीच 5.3 किलाेमीटर लंबी सड़क बनाने की भी मंजूरी मिल गई है। हाल ही बारिश के कारण इस सड़काें पर काफी पानी भर गया था। इससे सड़क खराब हो गई थी। अब इस सड़क का भी निर्माण कराया जाएगा। इसके अलावा शालीमार मार्केट से जेएससीए स्टेडियम तक 5.5 किलोमीटर लंबी सड़क भी बनेगी।

सड़क निर्माण पर इसलिए फाेकस

1. सड़काें का निर्माण लाेगाें काे राेजगार मिलेगा। सामग्री की खपत बढ़ेगी। इससे बाजार में पैसे अाएंगे।

2.पर्यटन सेक्टर में भी तेजी आएगी। सप्लाई चेन दुरुस्त हाेगा और पुलिस का मूवमेंट बेहतर हाेगा।

3.काेराेना काल में मरम्मत के अभाव में सड़काें की स्थिति जर्जर हाे गई थी। ट्रांसपाेर्टेशन काॅस्ट बढ़ गया था। दुर्घटनाएं भी बढ़ गई थीं।

जमीन अधिग्रहण का काम पूरा
काेराेना और दराें के निर्धारण के कारण डेढ़ साल तक सड़काें का निर्माण प्रभावित रहा। इस दाैरान हमने कागजी प्रक्रियाएं पूरी की। जमीन अधिग्रहण, सड़काें का चयन और डीपीआर बनाने का काम भी पूरा किया। सभी तैयारियां तेजी से हाे रही थी। इसलिए विभाग ने करीब 1500 कराेड़ की याेजनाएं स्वीकृत कर दी।
-सुनील कुमार, सचिव, पथ निर्माण विभाग

खबरें और भी हैं...