पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आवास बाेर्ड:हरमू, अरगाेड़ा व बरियातू में 500 फ्लैट्स ताेड़कर बनेगा रेसिडेंशियल कांप्लेक्स

रांचीएक महीने पहलेलेखक: संताेष चौधरी
  • कॉपी लिंक
आवास बोर्ड की जर्जर बिल्डिंग की दीवार पर जमा पीपल। - Dainik Bhaskar
आवास बोर्ड की जर्जर बिल्डिंग की दीवार पर जमा पीपल।
  • अगले महीने शुरू होगा जर्जर भवन की जगह नई बिल्डिंग का निर्माण
  • कई बिल्डिंग में पीपल-बरगद के पेड़ उग गए हैं

हरमू, अरगोड़ा और बरियातू हाउसिंग कॉलोनी में झारखंड राज्य आवास बोर्ड के 500 फ्लैट काे ताेड़कर नया रेसिडेंशियल कांप्लेक्स बनेगा। ये फ्लैट 60 वर्ष पुराने हैं, जाे आवास बाेर्ड द्वारा आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए बनाया गया था। 350 वर्गफुट के इस फ्लैट का आवंटन सैकड़ों लाेगाें काे किया गया था, लेकिन 500 से अधिक ऐसे फ्लैट हैं, जिसका आवंटन नहीं हुआ।

अब इन फ्लैटों की स्थिति काफी खराब हाे गई है। तीन मंजिलें ईडब्ल्यूएस फ्लैट पूरी तरह जर्जर हाे गया है। दीवाल से ईंट अलग हाे गए और छत टूटकर गिर रहा है। कई दीवारों में पीपल-बरगद के पेड़ उग गए हैं। इसलिए, अब इन फ्लैटों काे ताेड़कर नया बहुमंजिला कांप्लेक्स बनेगा, ताकि अधिक से अधिक लाेगाें के रहने की व्यवस्था हाे सके।

नगर विकास विभाग के निर्देश पर झारखंड अर्बन इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कंपनी (जुडको) जर्जर फ्लैट का डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार कराने में जुट गया है। कंसल्टेंट चयन के लिए प्रस्ताव मांगा गया है। 29 जून को टेंडर खोला जाएगा। इसमें कंपनी का चयन हाेता है ताे अगले माह से हरमू, अरगाेड़ा अाैर बरियातू हाउसिंग काॅलाेनी में जर्जर फ्लैट के सर्वे का काम शुरू हाेगा। तीन माह में डीपीआर तैयार हाेगा।

गड़बड़ी का परिणाम... बोर्ड की जमीन पर जुडकाे करेगा काम कार्य

आवास बोर्ड के भ्रष्टाचार का मामला कोर्ट में
आवास बोर्ड में बड़े पैमाने गड़बड़ी हुई हैं। विभागीय जांच में इसकी पुष्टि होने के बाद भी दोषी अफसरों पर कार्रवाई नहीं हुई। फिलहाल भ्रष्टाचार की जांच का मामला एसीबी और कोर्ट में है। ऐसे में नए प्रोजेक्ट में भ्रष्टाचार का साया न पड़े, इसलिए आवास बोर्ड की कॉलोनियों में जितनी भी जर्जर बिल्डिंगें हैं, उन्हें तोड़कर वहां रिडेवलपमेंट का पूरा काम जुडकाे की निगरानी में कराया जा रहा है।

मिलेंगी मूलभूल सुविधा

सीवरेज-ड्रेनेज की सुविधा भी हाेगी
हरमू, अरगाेड़ा और बरियातू हाउसिंग काॅलाेनी में जिन भवनों काे ताेड़कर नया कांप्लेक्स बनेगा, वहां आवास के साथ लाेगाें काे मूलभूत सुविधाएं भी मिलेंगी। बिजली-पानी, सीवरेज-ड्रेनेज के अलावा लैंड स्केपिंग करके पार्क बनेगा और खेल का मैदान भी बनेगा, ताकि वहां रहने वालाें का मनोरंजन भी हाे सके।

500 परिवार पर खतरा

जानलेवा बना आवास कभी भी गिर सकता है
हरमू, अरगोड़ा व बरियातू हाउसिंग कॉलोनी में आवास बोर्ड के ईडब्ल्यूएस फ्लैट कंडम हो गए हैं, फिर भी उनमें 500 से अधिक परिवार हैं। टॉयलेट-बाथरूम की गंदगी दीवार से होकर बिल्डिंग की बेस में जमा हो रही है। इस वजह से कई बिल्डिंग की बेस से ईंट बाहर हो गई है। लोगों में दुर्घटना को लेकर हमेशा डर बना रहता है।

क्या कहते हैं फ्लैट में रहने वाले...

  • कमजोर आय वर्ग के लिए बने फ्लैट्स मेंटेनेंस के अभाव में जर्जर हो गए हैं। लोग मेंटेनेंस खर्च नहीं देना चाहते, इसलिए, पूरी बिल्डिंग जर्जर हो गई। हमलोग वर्षों से यहां रह रहे हैं, पर अब काफी डर लगता है। - दिनेश कुमार, निवासी
  • यहां रहने वाले अपना पैसा खर्च नहीं करते, इसलिए पाइपलाइन टूटी-फूटी है। बोर्ड ने मरम्मत नहीं कराई। हमलोगों के पास रहने की कोई व्यवस्था नहीं, इसलिए खतरा मोल लेकर भी रह रहे हैं। - सत्यप्रकाश चौबे,निवासी

क्या कहते हैं अफसर...

जर्जर बिल्डिंगों को तोड़ा जाएगा

  • हरमू, अरगोड़ा व बरियातू हाउसिंग कॉलोनी की कई बिल्डिंग को कंडम घोषित कर तोड़ना है। आवास बोर्ड में टेक्निकल मैन पावर नहीं है। इसलिए, जुडकाे की निगरानी में डीपीआर बनेगा और निर्माण कार्य भी होगा। - अमित कुमार, प्रबंधन निदेशक, आवास बोर्ड
खबरें और भी हैं...