पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कार्रवाई का दिखावा...:नामकुम व मधुवन में 6 भट्ठियां तोड़ीं इस बार भी किसी की गिरफ्तारी नहीं

रांचीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • डीजीपी के आदेश के बाद भी रांची पुलिस की कार्यशैली नहीं बदल रही
  • अवैध शराब के खिलाफ अभियान के नाम पर चल रहा खेल
Advertisement
Advertisement

राज्य में अवैध शराब के खिलाफ अभियान के नाम पर की जा रही खानापूर्ती को डीजीपी एमवी राव ने गंभीरता से लिया है। उन्होंने राज्य के सभी पुलिस अधीक्षकों को सख्त आदेश दिया है कि अवैध शराब के खिलाफ केवल छापेमारी और भट्ठियां तोड़ने से काम नहीं चलेगा; शराब माफिया की भी गिरफ्तारी होनी चाहिए। डीजीपी के इस आदेश के बाद रांची में छापेमारी अभियान तो तेज हो गया है, लेकिन हर बार की तरह अभी भी किसी शराब माफिया को रांची पुलिस गिरफ्तार नहीं कर पा रही है, जबकि रांची में अवैध रूप से सबसे ज्यादा शराब बनाई जा रही है। एयरपोर्ट थाना क्षेत्र के हेथू, बड़ा घाघरा, छोटा घाघरा, हराटांड़, नामकुम के जोरार, कांके के होचर, डोरंडा के घाघरा और रातू में अवैध शराब का कारोबार फल-फूल चल रहा है।

लेकिन, पुलिस अभियान के नाम पर सिर्फ भट्ठियां तोड़कर चली आती है, किसी को पकड़ नहीं पाती। हर बार एेसा ही होने से पुलिस की कार्यप्रणाली पर संदेह होने लगता है। शुक्रवार को फिर नामकुम थाना क्षेत्र के हेसापीढ़ी में पुलिस ने जाकर सिर्फ शराब की 6 भट्ठियां तोड़ आई, किसी को गिरफ्तार नहीं कर सकी। शहर के बीचोंबीच स्थित सुखदेवनगर थाना क्षेत्र के मधुवन में भी पुलिस इसी तरह खानापूर्ती करके लौट आई। स्पेशल ब्रांच की सूचना पर भी खानापूर्ती : स्पेशल ब्रांच ने सालभर पहले सभी थानों को सूचना दी थी कि रांची में 144 से अधिक जगह अवैध रूप से देसी शराब बनाई व बेची जा रही है, फिर भी कोई गिरफ्तारी नहीं हुई।

क्यों न हो पुलिस की कार्यशैली पर संदेह...

70 दिनों में 25 से अधिक जगह छापेमारी, एक भी गिरफ्तारी नहीं
लॉकडाउन में सबसे अधिक शराब माफिया सक्रिय रहे। एक माह में अवैध रूप से सिर्फ रांची में करीब 1 करोड़ रु. से भी अधिक की शराब बेची गई। कार्रवाई के नाम पर पुलिस छापेमारी का दिखावा करती रही। 70 दिनों में एयरपोर्ट, डोरंडा व नामकुम में 25 से अधिक जगह छापेमारी की, 50 से ज्यादा अवैध भट्ठियां तोड़ीं, 20 हजार किलो से अधिक जावा महुआ नष्ट की, लेकिन एक भी गिरफ्तारी नहीं की। हर छापेमारी के बाद उपलब्धियां बढ़ा-चढ़ा कर पेश करती, लेकिन गिरफ्तारी के सवाल पर कहती; पुलिस के पहुंचने से पहले ही शराब माफिया भाग गए थे। इसलिए, संदेह होना तो लाजिमी है।

ग्रामीण एसपी बोले-पहले रेड होता था, अब एफआईआर भी की जाएगी

ग्रामीण एसपी नौशाद आलम ने कहा-रांची के ग्रामीण क्षेत्रों में काफी दिनों से शराब का अवैध कारोबार फल-फूल रहा है। इनके खिलाफ छापेमारी तो हो रही है, लेकिन पहले प्राथमिकी दर्ज नहीं की जा रही थी, अब सभी थाना प्रभारियों को आदेश दिया गया है कि वे शराब माफिया को चिह्नित कर उनके विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करें। गिरफ्तार करके उन्हें जेल भेजें। जल्द ही उन क्षेत्रों में अभियान चलाया जाएगा, जहां बड़े पैमाने पर अवैध रूप से शराब बनाई और बेची जाती है।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप अपनी रोजमर्रा की व्यस्त दिनचर्या में से कुछ समय सुकून और मौजमस्ती के लिए भी निकालेंगे। मित्रों व रिश्तेदारों के साथ समय व्यतीत होगा। घर की साज-सज्जा संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत हो...

और पढ़ें

Advertisement