JPSC मुख्य परीक्षा पर रोक मामले में फैसला सुरक्षित:झारखंड हाईकोर्ट में परीक्षा पर रोक लगाने के लिए याचिका दायर की गई है

रांची4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चीफ जस्टिस रवि रंजन और जस्टिस एसएन प्रसाद की बेंच ने मुख्य परीक्षा की तारीख 28 जनवरी के पहले मामले में सुनवाई पूरी कर आदेश जारी करने का निर्देश दिया है। - Dainik Bhaskar
चीफ जस्टिस रवि रंजन और जस्टिस एसएन प्रसाद की बेंच ने मुख्य परीक्षा की तारीख 28 जनवरी के पहले मामले में सुनवाई पूरी कर आदेश जारी करने का निर्देश दिया है।

7वीं से 10वीं JPSC को लेकर झारखंड हाई कोर्ट के जस्टिस राजेश शंकर की अदालत में सुनवाई हुई। दोनों पक्षों की बहस पूरी होने के बाद अदालत ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है। इस मामले में अदालत अपना फैसला 25 जनवरी को सुनाएगी। 28 जनवरी से सातवीं JPSC की मुख्य परीक्षा होनी है।

इस संबंध में शेखर सुमन ने हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की है। सुनवाई के दौरान प्रार्थी के अधिवक्ता राजेश कुमार की ओर से कहा गया है कि आठ प्रश्नों का मॉडल आंसर गलत है, इसलिए एक स्वतंत्र एक्सपर्ट कमेटी बनाकर इसकी जांच कराई जाए। उसके बाद प्रारंभिक परीक्षा को रद करते हुए संशोधत परिणाम जारी किया जाए।

JPSC ने कोर्ट से हस्तक्षेप न करने की अपील की
इस दौरान JPSC के अधिवक्ता संजय पिपरवाल और प्रिंस कुमार सिंह ने अदालत को बताया कि अगर कुछ मॉडल आंसर गलत भी हो जाते हैं, तो यह सभी के लिए होगा, न कि सिर्फ एक अभ्यर्थी के लिए। इसलिए इस मामले में कोर्ट को कोई हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए।

चीफ जस्टिस ने 28 जनवरी से पहले मामले की सुनवाई के दिए हैं आदेश
इस मामले पर पिछले सप्ताह भी सुनवाई हुई थी। उसमें चीफ जस्टिस की बेंच ने कहा था कि मामला एकलपीठ में चल रहा है। ऐसे में खंडपीठ मामले में सुनवाई नहीं कर सकती। साथ ही चीफ जस्टिस रवि रंजन और जस्टिस एसएन प्रसाद की बेंच ने मुख्य परीक्षा की तारीख 28 जनवरी के पहले मामले में सुनवाई पूरी कर आदेश जारी करने का निर्देश दिया है।