पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अन स्मार्ट वर्क का असर:एक हफ्ता पहले रैंकिंग में अव्वल रांची स्मार्ट सिटी की सड़कें, 48 घंटे की बारिश में ही धंसीं

रांची25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रांची स्मार्ट सिटी की नई सड़क कई जगह टूट गई है। - Dainik Bhaskar
रांची स्मार्ट सिटी की नई सड़क कई जगह टूट गई है।
  • 500 करोड़ से बन रहे स्मार्ट सिटी में उद्धाटन से पहले ही सड़कों में पड़ी दरार सीवर लाइन भी टूटी, बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर वर्क की गुणवत्ता सवालों के घेरे में

पीएम नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट स्मार्ट सिटी को बेहतर तरीके से धरातल पर उतारने के मामले में झारखंड हमेशा नंबर वन पर रहा है। हाल ही में जारी ताजा रैंकिंग में स्मार्ट सिटी का काम तेजी से करने के मामले में हमारे राज्य को पूरे देश में पहला स्थान मिला है। लेकिन रांची स्मार्ट सिटी में धरातल पर हो रहे काम की कलई मात्र 48 घंटे की बारिश ने खोल कर रख दी है। यास तूफान की वजह से हुई बारिश से धुर्वा में बन रही रांची स्मार्ट सिटी की सड़कें कई स्थानों पर धंस गईं।

धुर्वा गोलचक्कर से हटिया स्टेशन तक बन रही 45 मीटर चौड़ी और 2.5 किमी लंबी बिटुमिन की सड़क पर कई स्थानों पर दरार आ गई है। सड़क के किनारे बनाई गई सीवरेज-ड्रेनेज लाइन मिट्टी धंसने से ध्वस्त हो गई। करीब 500 करोड़ रुपए की लागत से स्मार्ट सिटी में बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर वर्क हो रहा है। इसके तहत 4 कैटेगरी की 23 किमी लंबी सड़क, पाथ वे, साइकिल ट्रैक, सीवरेज-ड्रेनेज, स्ट्रॉम वाटर ड्रेनेज सिस्टम, अंडरग्राउंड सप्लाई वाटर पाइपलाइन बिछाने का काम हो रहा है। देश की प्रतिष्ठित कंपनी एलएंडटी ने इसका ठेका लिया है। लेकिन जिस तरह सड़क और सीवर लाइन धंसी है, उससे काम की गुणवत्ता पर बड़ा सवाल खड़ा हो गया है। पूरे मामले की जांच के बाद ही पता चलेगा कि सड़क निर्माण में कहां और कैसे गड़बड़ी हुई।

स्मार्ट सिटी के फंड से जुडको की निगरानी में हो रहा निर्माण

656 एकड़ में बन रही स्मार्ट सिटी में बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर का काम स्मार्ट सिटी के फंड से हो रहा है। लेकिन निर्माण का ठेका नगर विकास विभाग की एजेंसी जुडको ने दिया है। जुडको के इंजीनियरों की निगरानी में ही सड़क, सीवरेज-ड्रेनेज, पाइपलाइन बिछाने का काम हो रहा है। ऐसे में घटिया सड़क निर्माण के लिए जुडको के अधिकारियों की भूमिका भी संदेह के घेरे में हैं। स्मार्ट सिटी में 45 मीटर, 40 मीटर, 35 मीटर और 10 मीटर से चौड़ी सड़क का निर्माण हो रहा है। इसके साथ में सीवरेज-ड्रेनेज, यूटिलिटी डक्ट सहित अन्य काम हो रहे हैं। जो सड़क सबसे अधिक स्थानों पर धंसी है, उसके निर्माण पर करीब 25 करोड़ रुपए की लागत आई है।

जिम्मेवार बोले... अभी सड़क अंडर कंस्ट्रक्शन है- सीईओ

​​​​​​मुख्य सड़क अभी अंडर कंस्ट्रक्शन है। रोड के नीचे की एचईसी की पाइपलाइन की वजह से थोड़ी क्षति पहुंची है। दूसरी जगह फुटपाथ के निर्माण के दौरान बारिश से मिट्टी का कटाव हुआ है। लेकिन अभी रोड का काम कंप्लीट नहीं हुआ है। टॉप लेयर नहीं डाला गया है। वैसे भी काम खत्म होने के एक साल बाद तक एजेंसी को ही मरम्मत करनी है। वहीं पांच साल तक ऑपरेशन एंड मेंटेनेंस की भी जिम्मेवार है, इसलिए अभी किसी तरह की गड़बड़ी की बात नहीं कही जा सकती।

-अमित कुमार, सीईओ, स्मार्ट सिटी

खबरें और भी हैं...